आज के टॉप 5

वो ज़हर देता तो सब की निगह में जाता

सो ये किया कि मुझे वक़्त पे दवाएँ दीं

अख़्तर नज़्मी
  • शेयर कीजिए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो

जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

बशीर बद्र

तुझ से मिलने को बे-क़रार था दिल

तुझ से मिल कर भी बे-क़रार रहा

रसा चुग़ताई

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

कहती है तुझ को ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ग़ाएबाना क्या

हैदर अली आतिश

उन्हें भी जीने के कुछ तजरबे हुए होंगे

जो कह रहे हैं कि मर जाना चाहते हैं हम

वाली आसी
आज का शब्द

नुमाइश

  • numaa.ish
  • نمائش

शब्दार्थ

exhibitionْ

शम्अ जिस आग में जलती है नुमाइश के लिए

हम उसी आग में गुम-नाम से जल जाते हैं

the fire,that the flame burns in, for all to see

In that very fire I do burn but namelessly

the fire,that the flame burns in, for all to see

In that very fire I do burn but namelessly

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

महान शायर/विश्व-साहित्य में उर्दू की आवाज़/सब से अधिक लोकप्रिय सुने और सुनाए जाने वाले अशआर के रचयिता

दिल ही तो है संग-ओ-ख़िश्त दर्द से भर आए क्यूँ

रोएँगे हम हज़ार बार कोई हमें सताए क्यूँ

it's just a heart, no stony shard; why shouldn't it fill with pain

i will cry a thousand times,why should someone complain?

it's just a heart, no stony shard; why shouldn't it fill with pain

i will cry a thousand times,why should someone complain?

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

बाक़ियात-ए-जिगर

मुसतफ़ा राही 

1987 अवशेष

Mahmood Gawan Ki Wapsi

रहमान आज़र 

2015 नाटक / ड्रामा

Tarah Daar Laundi

मुंशी सज्जाद हुसैन 

1965 फ़िक्शन

Khum Khana-e-Javed

लाला सिरी राम 

1917 तज़्किरा/संस्मरण/जीवनी

निसार अहमद फ़ारूक़ी नम्बर: शुमारा नम्बर-009,010

फ़े सीन एजाज़ 

2002 इंशा

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Favroite added successfully

Favroite removed successfully