Asrar-ul-Haq Majaz's Photo'

असरार-उल-हक़ मजाज़

1911 - 1955 | लखनऊ, भारत

अग्रणी एवं प्रख्यात प्रगतिशील शायर, रोमांटिक और क्रांतिकारी नज़्मों के लिए प्रसिद्ध, ऑल इंडिया रेडियो की पत्रिका “आवाज” के पहले संपादक, मशहूर शायर और गीतकार जावेद अख़्तर के मामा

ग़ज़ल 39

नज़्म 57

शेर 37

छुप गए वो साज़-ए-हस्ती छेड़ कर

अब तो बस आवाज़ ही आवाज़ है

बताऊँ क्या तुझे हम-नशीं किस से मोहब्बत है

मैं जिस दुनिया में रहता हूँ वो इस दुनिया की औरत है

  • शेयर कीजिए

तुम्हीं तो हो जिसे कहती है नाख़ुदा दुनिया

बचा सको तो बचा लो कि डूबता हूँ मैं

क़ितआ 10

लतीफ़े 29

ई-पुस्तक 21

Aahang

 

1956

Aahang

 

1952

Aahang

 

2011

Hindustani Adab Ke Memar: Asrarul Haq Majaz

 

2009

कलाम-ए-मजाज़

 

 

Kulliyat-e- Majaz

 

2002

कुल्लियात-ए-मजाज़

 

2012

कुल्लियात-ए-मजाज़

असरारुल हक़ मजाज़

2006

मजाज़ और उसकी शायरी

 

1963

मजाज़

 

1948

चित्र शायरी 5

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ
जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ
ग़ैर की बस्ती है कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

झिलमिलाते क़ुमक़ुमों की राह में ज़ंजीर सी
रात के हाथों में दिन की मोहनी तस्वीर सी
मेरे सीने पर मगर रखी हुई शमशीर सी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

ये रुपहली छाँव ये आकाश पर तारों का जाल
जैसे सूफ़ी का तसव्वुर जैसे आशिक़ का ख़याल
आह लेकिन कौन जाने कौन समझे जी का हाल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

फिर वो टूटा इक सितारा फिर वो छूटी फुल-जड़ी
जाने किस की गोद में आई ये मोती की लड़ी
हूक सी सीने में उठ्ठी चोट सी दिल पर पड़ी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

रात हँस हँस कर ये कहती है कि मय-ख़ाने में चल
फिर किसी शहनाज़-ए-लाला-रुख़ के काशाने में चल
ये नहीं मुमकिन तो फिर ऐ दोस्त वीराने में चल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

हर तरफ़ बिखरी हुई रंगीनियाँ रानाइयाँ
हर क़दम पर इशरतें लेती हुई अंगड़ाइयाँ
बढ़ रही हैं गोद फैलाए हुए रुस्वाइयाँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

रास्ते में रुक के दम ले लूँ मिरी आदत नहीं
लौट कर वापस चला जाऊँ मिरी फ़ितरत नहीं
और कोई हम-नवा मिल जाए ये क़िस्मत नहीं
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

मुंतज़िर है एक तूफ़ान-ए-बला मेरे लिए
अब भी जाने कितने दरवाज़े हैं वा मेरे लिए
पर मुसीबत है मिरा अहद-ए-वफ़ा मेरे लिए
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

जी में आता है कि अब अहद-ए-वफ़ा भी तोड़ दूँ
उन को पा सकता हूँ मैं ये आसरा भी तोड़ दूँ
हाँ मुनासिब है ये ज़ंजीर-ए-हवा भी तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

इक महल की आड़ से निकला वो पीला माहताब
जैसे मुल्ला का अमामा जैसे बनिए की किताब
जैसे मुफ़्लिस की जवानी जैसे बेवा का शबाब
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

दिल में इक शोला भड़क उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
मेरा पैमाना छलक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
ज़ख़्म सीने का महक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

जी में आता है ये मुर्दा चाँद तारे नोच लूँ
इस किनारे नोच लूँ और उस किनारे नोच लूँ
एक दो का ज़िक्र क्या सारे के सारे नोच लूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

मुफ़्लिसी और ये मज़ाहिर हैं नज़र के सामने
सैकड़ों सुल्तान-ए-जाबिर हैं नज़र के सामने
सैकड़ों चंगेज़ ओ नादिर हैं नज़र के सामने
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

ले के इक चंगेज़ के हाथों से ख़ंजर तोड़ दूँ
ताज पर उस के दमकता है जो पत्थर तोड़ दूँ
कोई तोड़े या न तोड़े मैं ही बढ़ कर तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

बढ़ के उस इन्दर सभा का साज़ ओ सामाँ फूँक दूँ
उस का गुलशन फूँक दूँ उस का शबिस्ताँ फूँक दूँ
तख़्त-ए-सुल्ताँ क्या मैं सारा क़स्र-ए-सुल्ताँ फूँक दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ ग़ैर की बस्ती है कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ झिलमिलाते क़ुमक़ुमों की राह में ज़ंजीर सी रात के हाथों में दिन की मोहनी तस्वीर सी मेरे सीने पर मगर रखी हुई शमशीर सी ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ये रुपहली छाँव ये आकाश पर तारों का जाल जैसे सूफ़ी का तसव्वुर जैसे आशिक़ का ख़याल आह लेकिन कौन जाने कौन समझे जी का हाल ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ फिर वो टूटा इक सितारा फिर वो छूटी फुल-जड़ी जाने किस की गोद में आई ये मोती की लड़ी हूक सी सीने में उठ्ठी चोट सी दिल पर पड़ी ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ रात हँस हँस कर ये कहती है कि मय-ख़ाने में चल फिर किसी शहनाज़-ए-लाला-रुख़ के काशाने में चल ये नहीं मुमकिन तो फिर ऐ दोस्त वीराने में चल ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ हर तरफ़ बिखरी हुई रंगीनियाँ रानाइयाँ हर क़दम पर इशरतें लेती हुई अंगड़ाइयाँ बढ़ रही हैं गोद फैलाए हुए रुस्वाइयाँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ रास्ते में रुक के दम ले लूँ मिरी आदत नहीं लौट कर वापस चला जाऊँ मिरी फ़ितरत नहीं और कोई हम-नवा मिल जाए ये क़िस्मत नहीं ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ मुंतज़िर है एक तूफ़ान-ए-बला मेरे लिए अब भी जाने कितने दरवाज़े हैं वा मेरे लिए पर मुसीबत है मिरा अहद-ए-वफ़ा मेरे लिए ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ जी में आता है कि अब अहद-ए-वफ़ा भी तोड़ दूँ उन को पा सकता हूँ मैं ये आसरा भी तोड़ दूँ हाँ मुनासिब है ये ज़ंजीर-ए-हवा भी तोड़ दूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ इक महल की आड़ से निकला वो पीला माहताब जैसे मुल्ला का अमामा जैसे बनिए की किताब जैसे मुफ़्लिस की जवानी जैसे बेवा का शबाब ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ दिल में इक शोला भड़क उट्ठा है आख़िर क्या करूँ मेरा पैमाना छलक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ ज़ख़्म सीने का महक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ जी में आता है ये मुर्दा चाँद तारे नोच लूँ इस किनारे नोच लूँ और उस किनारे नोच लूँ एक दो का ज़िक्र क्या सारे के सारे नोच लूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ मुफ़्लिसी और ये मज़ाहिर हैं नज़र के सामने सैकड़ों सुल्तान-ए-जाबिर हैं नज़र के सामने सैकड़ों चंगेज़ ओ नादिर हैं नज़र के सामने ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ले के इक चंगेज़ के हाथों से ख़ंजर तोड़ दूँ ताज पर उस के दमकता है जो पत्थर तोड़ दूँ कोई तोड़े या न तोड़े मैं ही बढ़ कर तोड़ दूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ बढ़ के उस इन्दर सभा का साज़ ओ सामाँ फूँक दूँ उस का गुलशन फूँक दूँ उस का शबिस्ताँ फूँक दूँ तख़्त-ए-सुल्ताँ क्या मैं सारा क़स्र-ए-सुल्ताँ फूँक दूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

 

वीडियो 42

This video is playing from YouTube

सेक्शन से वीडियो
शायरी वीडियो
A Tribute to Majaz......by shireen farhat

अज्ञात

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 1

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 2

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 3

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 4

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 5

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 6

Kahkashan (Documentary on Asrar-ul-Haq Majaz) Part 7

सेक्शन से वीडियो
अन्य वीडियो

विविध

 Dekhna Jazb-e-mohabbat ka asar Aaj ki raat

देखना जज़्ब-ए-मोहब्बत का असर आज की रात जगजीत सिंह

An Evening on Asrar ul Haq Majaz Birth Anniversary by Muzzafar Ali's Rumi Foundation(Lucknow Chapter)

अज्ञात

apne dil ko dono aalam se

apne dil ko dono aalam se- from Kahkashan जगजीत सिंह

aye gam-e-dil kya karun aye vehshat-e-dil kya karu

विविध

Hijaab-e-fitna par ab utha leti to acha tha

हिजाब-ए-फ़ित्ना-परवर अब उठा लेती तो अच्छा था जगजीत सिंह

Seene Mein Unke Jalwe Chhupaye Hue Toh Hain

भारती विश्वनाथन

आज की रात

देखना जज़्ब-ए-मोहब्बत का असर आज की रात जगजीत सिंह

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ आशा भोसले

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ जगजीत सिंह

इज़्न-ए-ख़िराम लेते हुए आसमाँ से हम

Urdu Studio

ए'तिराफ़

अब मिरे पास तुम आई हो तो क्या आई हो जगजीत सिंह

कुछ तुझ को ख़बर है हम क्या क्या ऐ शोरिश-ए-दौराँ भूल गए

Urdu Studio

कमाल-ए-इश्क़ है दीवाना हो गया हूँ मैं

शिशिर पारखी

जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है

भारती विश्वनाथन

जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है

अज्ञात

तस्कीन-ए-दिल-ए-महज़ूँ न हुई वो सई-ए-करम फ़रमा भी गए

जगजीत सिंह

नज़्र-ए-अलीगढ़

सरशार-ए-निगाह-ए-नर्गिस हूँ पा-बस्ता-ए-गेसू-ए-सुम्बुल हूँ ग्रुप

नज़्र-ए-दिल

अपने दिल को दोनों आलम से उठा सकता हूँ मैं जगजीत सिंह

नन्ही पुजारन

इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन Urdu Studio

नन्ही पुजारन

इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन अज्ञात

नूरा

वो नौ-ख़ेज़ नूरा वो इक बिन्त-ए-मरियम अज्ञात

नूरा

वो नौ-ख़ेज़ नूरा वो इक बिन्त-ए-मरियम अज्ञात

नौ-जवान ख़ातून से

हिजाब-ए-फ़ित्ना-परवर अब उठा लेती तो अच्छा था अज्ञात

नौ-जवान से

जलाल-ए-आतिश-ओ-बर्क़-ओ-सहाब पैदा कर अज्ञात

मजबूरियाँ

मैं आहें भर नहीं सकता कि नग़्मे गा नहीं सकता महेंदर कपूर

रात और रेल

फिर चली है रेल स्टेशन से लहराती हुई अज्ञात

रात और रेल

फिर चली है रेल स्टेशन से लहराती हुई अज्ञात

सीने में उन के जल्वे छुपाए हुए तो हैं

भारती विश्वनाथन

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ तलअत महमूद

ऑडियो 2

कुछ तुझ को ख़बर है हम क्या क्या ऐ शोरिश-ए-दौराँ भूल गए

कुछ तुझ को ख़बर है हम क्या क्या ऐ शोरिश-ए-दौराँ भूल गए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

 

संबंधित शायर

  • वामिक़ जौनपुरी वामिक़ जौनपुरी
  • अब्दुल हमीद अदम अब्दुल हमीद अदम
  • मीराजी मीराजी
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर
  • मजरूह सुल्तानपुरी मजरूह सुल्तानपुरी
  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री
  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर

"लखनऊ" के और शायर

  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • शाहिद कमाल शाहिद कमाल
  • मुनव्वर लखनवी मुनव्वर लखनवी
  • रशीद लखनवी रशीद लखनवी
  • संजय मिश्रा शौक़ संजय मिश्रा शौक़
  • मिर्ज़ा अल्ताफ़ हुसैन आलिम लखनवी मिर्ज़ा अल्ताफ़ हुसैन आलिम लखनवी
  • जावेद लख़नवी जावेद लख़नवी
  • नातिक़ लखनवी नातिक़ लखनवी
  • राकेश राही राकेश राही
  • गीताञ्जलि राय गीताञ्जलि राय

Added to your favorites

Removed from your favorites