15 चुनिंदा हास्य कविताएँ

मिज़ाहिया शायरी बयकवक़्त कई डाइमेंशन रखती है, इस में हंसने हंसाने और ज़िंदगी की तल्ख़ियों को क़हक़हे में उड़ाने की सकत भी होती है और मज़ाह के पहलू में ज़िंदगी की ना-हमवारियों और इन्सानों के ग़लत रवय्यों पर तंज़ करने का मौक़ा भी। तंज़ और मिज़ाह के पैराए में एक तख़्लीक़-कार वो सब कह जाता है जिसके इज़हार की आम ज़िंदगी में तवक़्क़ो भी नहीं की जा सकती। ये शायरी पढ़िए और ज़िंदगी के इन दिल-चस्प इलाक़ों की सैर कीजिए।

607
Favorite

SORT BY

मैं शिकार हूँ किसी और का मुझे मारता कोई और है

मैं शिकार हूँ किसी और का मुझे मारता कोई और है

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

फ़िल्मी इश्क़

मोहब्बत जिस को कहते हैं बड़ी मुश्किल से होती है

ज़रीफ़ जबलपूरी

ऑनलाइन आशिक़

नेट ईजाद हुआ हिज्र के मारों के लिए

खालिद इरफ़ान

जल्वा-ए-दरबार-ए-देहली

सर में शौक़ का सौदा देखा

अकबर इलाहाबादी

अदीब की महबूबा

तुम्हारी उल्फ़त में हारमोनियम पे 'मीर' की ग़ज़लें गा रहा हूँ

राजा मेहदी अली ख़ाँ

पेन-ड्राईव

ग़ुस्से में बीवी ये बोली शौहर से

अहमद अल्वी

क्रिकेट मैच

बेज़ार हो गए थे जो शाएर हयात से

साग़र ख़य्यामी

जहाँ सुल्ताना पढ़ती थी

वो इस कॉलेज की शहज़ादी थी और शाहाना पढ़ती थी

सरफ़राज़ शाहिद

ओ देस से आने वाले बता

क्या अब भी वहाँ का हर शाएर

क़ाज़ी गुलाम मोहम्मद

डिब्बों का दूध पी कर बच्चे जो पल रहे हैं

डिब्बों का दूध पी कर बच्चे जो पल रहे हैं

पागल आदिलाबादी

क्रिकेट और मुशाइरा

मुशाइरे का भी तफ़रीह एम होता है

दिलावर फ़िगार

औरतों की असेंबली

वो शानों पे ज़रकार आँचल उछाले

सय्यद ज़मीर जाफ़री

इश्क़ अब मेल से बे-मेल हुआ जाता है

इश्क़ अब मेल से बे-मेल हुआ जाता है

माचिस लखनवी

नया हाथी

शादियाँ होती थीं जब पहले किसी देहात में

रज़ा नक़वी वाही