प्यार भरी 5 नज़्में

मोहब्बत पर ये शायरी आपके लिए एक सबक़ की तरह है, आप इस से मोहब्बत में जीने के आदाब भी सीखेंगे और हिज्र-ओ-विसाल को गुज़ारने के तरीक़े भी. ये पहला ऐसा ख़ूबसूरत काव्य-संग्रह है जिसमें मोहब्बत के हर रंग, हर भाव और हर एहसास को अभिव्यक्त करने वाले शेरों को जमा किया गया है.आप इन्हें पढ़िए और मोहब्बत करने वालों के बीच साझा कीजिए.

4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कभी कभी

कभी कभी मिरे दिल में ख़याल आता है

साहिर लुधियानवी

मोहब्बत हो गई तुम से

तुम्हें इक बात कहनी थी

ज़ुबैर अली ताबिश

एक ख़्वाब

एक ही ख़्वाब कई बार यूँही देखा मैं ने

गुलज़ार

ताज-महल सी लगती हो

सर पे अपने जूड़ा बाँधे

अबु बक्र अब्बाद

तुम्हें प्यार है, तो यक़ीन दो,

तुम्हें प्यार है, तो यक़ीन दो,

आरिफ़ इशतियाक़