यारो मुझे मुआ'फ़ रखो मैं नशे में हूँ

मीर तक़ी मीर

यारो मुझे मुआ'फ़ रखो मैं नशे में हूँ

मीर तक़ी मीर

MORE BYमीर तक़ी मीर

    INTERESTING FACT

    फिल्म : सात लाख

    यारो मुझे मुआ'फ़ रखो मैं नशे में हूँ

    अब दो तो जाम ख़ाली ही दो मैं नशे में हूँ

    pardon me my friends- I am in a drunken stupor

    give me just an empty cup, now if you serve me more

    एक एक क़ुर्त दौर में यूँ ही मुझे भी दो

    जाम-ए-शराब पुर करो मैं नशे में हूँ

    just a drop or two in every round you should now pour

    fill not my goblet to the brim, I should drink no more

    मस्ती से दरहमी है मिरी गुफ़्तुगू के बीच

    जो चाहो तुम भी मुझ को कहो मैं नशे में हूँ

    drunkenness makes my speech incoherent today

    As I'm not in my senses, say what you wish to say

    या हाथों हाथ लो मुझे मानिंद-ए-जाम-ए-मय

    या थोड़ी दूर साथ चलो मैं नशे में हूँ

    either hold me by your hand as like a glass you would

    or else walk with me a while lest stumble, fall I should

    मा'ज़ूर हूँ जो पाँव मिरा बे-तरह पड़े

    तुम सरगिराँ तो मुझ से हो मैं नशे में हूँ

    I am helpless that my feet don't tread in a proper way

    do not be annoyed with me I've had too much today

    भागी नमाज़-ए-जुमा तो जाती नहीं है कुछ

    चलता हूँ मैं भी टुक तो रहो मैं नशे में हूँ

    Friday prayers won't run away, they can surely wait

    I shall come, hold on a while, I'm in a drunken state

    नाज़ुक-मिज़ाज आप क़यामत हैं 'मीर' जी

    जूँ शीशा मेरे मुँह लगो मैं नशे में हूँ

    miirji the frailty of your temperament is truly such

    brush not my lips like a cup for I've drunk too much

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    सलीम रज़ा

    सलीम रज़ा

    सी एच आत्मा

    सी एच आत्मा

    पंकज उदास

    पंकज उदास

    ग़ुलाम अली

    ग़ुलाम अली

    छाया गांगुली

    छाया गांगुली

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY