ज़माँ मकाँ थे मिरे सामने बिखरते हुए

राजेन्द्र मनचंदा बानी

ज़माँ मकाँ थे मिरे सामने बिखरते हुए

राजेन्द्र मनचंदा बानी

MORE BY राजेन्द्र मनचंदा बानी

ज़माँ मकाँ थे मिरे सामने बिखरते हुए

मैं ढेर हो गया तूल-ए-सफ़र से डरते हुए

दिखा के लम्हा-ए-ख़ाली का अक्स-ए-ला-तफ़सीर

ये मुझ में कौन है मुझ से फ़रार करते हुए

बस एक ज़ख़्म था दिल में जगह बनाता हुआ

हज़ार ग़म थे मगर भूलते-बिसरते हुए

वो टूटते हुए रिश्तों का हुस्न-ए-आख़िर था

कि चुप सी लग गई दोनों को बात करते हुए

अजब नज़ारा था बस्ती का उस किनारे पर

सभी बिछड़ गए दरिया से पार उतरते हुए

मैं एक हादसा बन कर खड़ा था रस्ते में

अजब ज़माने मिरे सर से थे गुज़रते हुए

वही हुआ कि तकल्लुफ़ का हुस्न बीच में था

बदन थे क़ुर्ब-ए-तही-लम्स से बिखरते हुए

RECITATIONS

नोमान शौक़

नोमान शौक़

नोमान शौक़

ज़माँ मकाँ थे मिरे सामने बिखरते हुए नोमान शौक़

ज़माँ मकाँ थे मिरे सामने बिखरते हुए

0
COMMENT
COMMENTS
Start a conversation

Critique mode ON

Tap on any word to submit a critique about that line. Word-meanings will not be available while you’re in this mode.

OKAY

SUBMIT CRITIQUE

नाम

ई-मेल

CRITIQUE

Thanks, for your feedback

Critique draft saved

EDIT DISCARD

Critique mode ON

TURN OFF

Discard saved critique?

CANCEL DISCARD

Additional information available

Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

OKAY

About this sher

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

Close

rare Unpublished content

This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

OKAY
Rekhta

Favroite added successfully

Favroite removed successfully