कोई उम्मीद बर नहीं आती

मिर्ज़ा ग़ालिब

कोई उम्मीद बर नहीं आती

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BY मिर्ज़ा ग़ालिब

    कोई उम्मीद बर नहीं आती

    कोई सूरत नज़र नहीं आती

    no hope is there that now comes to light

    nor is there any avenue in sight

    मौत का एक दिन मुअय्यन है

    नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

    when for death a day has been ordained

    what reason that I cannot sleep all night?

    आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी

    अब किसी बात पर नहीं आती

    nothing now could even make me smile,

    I once could laugh at my heart's own plight

    जानता हूँ सवाब-ए-ताअत-ओ-ज़ोहद

    पर तबीअत इधर नहीं आती

    virtues of restraint and prayer I know

    but neither do my temperament excite

    है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ

    वर्ना क्या बात कर नहीं आती

    Do you think I know not how to speak?

    There's something- my tongue I have to bite

    क्यूँ चीख़ूँ कि याद करते हैं

    मेरी आवाज़ गर नहीं आती

    when absence of my voice makes her pine

    why then should I not shout with all my might?

    दाग़-ए-दिल गर नज़र नहीं आता

    बू भी चारागर नहीं आती

    O healer does not any smell persist

    if burning scars of heart are not in sight?

    हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी

    कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

    I'm at a place from where no news of me

    now even to myself can come to light

    मरते हैं आरज़ू में मरने की

    मौत आती है पर नहीं आती

    I die yearning as I hope for death

    Death does come to me but then not quite

    काबा किस मुँह से जाओगे 'ग़ालिब'

    शर्म तुम को मगर नहीं आती

    Ghalib,what face will you to the kaabaa take

    when you are not ashamed and not contrite

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    लता मंगेशकर

    लता मंगेशकर

    राहत फ़तह अली

    राहत फ़तह अली

    भारती विश्वनाथन

    भारती विश्वनाथन

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    फरीहा परवेज़

    फरीहा परवेज़

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    कोई उम्मीद बर नहीं आती नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY