आज के चुनिन्दा 5 शेर

हयात ले के चलो काएनात ले के चलो

चलो तो सारे ज़माने को साथ ले के चलो

मख़दूम मुहिउद्दीन
  • शेयर कीजिए

फ़रिश्तों से भी अच्छा मैं बुरा होने से पहले था

वो मुझ से इंतिहाई ख़ुश ख़फ़ा होने से पहले था

अनवर शऊर

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

कहती है तुझ को ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ग़ाएबाना क्या

हैदर अली आतिश

आग का क्या है पल दो पल में लगती है

बुझते बुझते एक ज़माना लगता है

कैफ़ भोपाली

कश्ती-ए-मय को हुक्म-ए-रवानी भी भेज दो

जब आग भेज दी है तो पानी भी भेज दो

जोश मलीहाबादी
  • शेयर कीजिए
आज का शब्द

जफ़ा

  • jafaa
  • جفا

शब्दार्थ

Tyranny/ oppression

वफ़ाओं के बदले जफ़ा कर रहे हैं

मैं क्या कर रहा हूँ वो क्या कर रहे हैं

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

पाकिस्तान में अग्रणी शायरों में शामिल, अपनी सांस्कृतिक रूमानियत के लिए मशहूर।

अब भी तौहीन-ए-इताअत नहीं होगी हम से

दिल नहीं होगा तो बैअ'त नहीं होगी हम से

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

क़ाज़ी अबदुस्सत्तार

Urdu Afsane Ki Zinda Haqiqat | Qazi Abdus Sattar and Syed Mohammad Ashraf | Jashn-e-Rekhta

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

Deewan Hamd-e-izadi

मुफ़्ती ग़ुलाम सरवर लाहोरी 

1909 दीवान

Shirimad Bhagwat Geeta

 

1975 अनुवाद

कुल्लियात-ए-अख़्तरुल ईमान

अख़्तर-उल-ईमान 

2006 महाकाव्य

Shumara Number-008

मोहम्मद सरवर 

1964 Ar Raheem Jild 1 No 8 January 1964-SVK

Tareekh-e-Hindustan

करीमुद्दीन 

1886 मुंशी नवल किशोर के प्रकाशन

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Added to your favorites

Removed from your favorites