पसंदीदा विडियो

दानिश इक़बाल

Izhar-e-Ishq aur Shayari: Jashn-e-Rekhta 2017

इस विडियो को शेयर कीजिए

आज के टॉप 5

अच्छी सूरत भी क्या बुरी शय है

जिस ने डाली बुरी नज़र डाली

आलमगीर कैफ़ टोंकी
  • शेयर कीजिए

रोने वाले तुझे रोने का सलीक़ा ही नहीं

अश्क पीने के लिए हैं कि बहाने के लिए

आनंद नारायण मुल्ला
  • शेयर कीजिए

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं

उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में

बशीर बद्र

मौत उस की है करे जिस का ज़माना अफ़्सोस

यूँ तो दुनिया में सभी आए हैं मरने के लिए

अज्ञात
  • शेयर कीजिए

ये दश्त वो है जहाँ रास्ता नहीं मिलता

अभी से लौट चलो घर अभी उजाला है

अख़्तर सईद ख़ान
आर्काइव
आज का शब्द

मिज़्गाँ

  • mizhgaa.n
  • مژگاں

शब्दार्थ

Eyelashes

किन नींदों अब तू सोती है चश्म-ए-गिर्या-नाक

मिज़्गाँ तो खोल शहर को सैलाब ले गया

शब्द शेयर कीजिए

आर्काइव

आज की प्रस्तुति

उर्दू में हास्य-व्यंग के सबसे बड़े शायर , इलाहाबाद में सेशन जज थे।

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है

डाका तो नहीं मारा चोरी तो नहीं की है

barely have I sipped a bit, why should this uproar be

It's not that I've commited theft or daylight robbery

barely have I sipped a bit, why should this uproar be

It's not that I've commited theft or daylight robbery

पूर्ण ग़ज़ल देखें

अकबर इलाहाबादी के बारे में शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

उर्दू साहित्य का सबसे बड़ा ऑनलाइन संग्रह

ग़ज़ल

मजरूह सुल्तानपुरी 

1982 काव्य संग्रह

Patras Ke Mazameen

अहमद शाह बुख़ारी 

2011 नॉन-फ़िक्शन

जंग और अम्न

लेव तालस्तोय 

2013 नॉवेल / उपन्यास

शुमारा नम्बर-259

अक़ीला शाहीन 

2002 शब ख़ून

Ek Gadhe Ki Sarguzisht

कृष्ण चन्द्र 

2007 फ़िक्शन

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

200+

ग़ज़लें

अभी पढ़िए

1300+

ई-पुस्तक

अभी पढ़िए

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Favroite added successfully

Favroite removed successfully