आज के चुनिन्दा 5 शेर

मिलने की तरह मुझ से वो पल भर नहीं मिलता

दिल उस से मिला जिस से मुक़द्दर नहीं मिलता

नसीर तुराबी
  • शेयर कीजिए

सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ

ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ

ख़्वाजा मीर दर्द

तुम मुख़ातिब भी हो क़रीब भी हो

तुम को देखें कि तुम से बात करें

close to me you are there

should I speak or should I stare/see

close to me you are there

should I speak or should I stare/see

फ़िराक़ गोरखपुरी

ज़िंदगी तू ने मुझे क़ब्र से कम दी है ज़मीं

पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है

बशीर बद्र

ख़ंजर चले किसी पे तड़पते हैं हम 'अमीर'

सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है

अमीर मीनाई
  • शेयर कीजिए
आज का शब्द

हाजत

  • haajat
  • حاجت

शब्दार्थ

need, necessity, requirement

आदमी से आदमी की जब हाजत हो रवा

क्यूँ ख़ुदा ही की करे इतनी फिर याद आदमी

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

रोमानी ग़ज़ल के शायर, अनुवादक, संपादक अपनी ग़ज़ल " देर लगी आने में लेकिन ..." के लिए प्रसिद्ध

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो

आस ने दिल का साथ छोड़ा वैसे हम घबराए तो

Am grateful you came finally, though you were delayed

hope had not forsaken me, though must say was afraid

Am grateful you came finally, though you were delayed

hope had not forsaken me, though must say was afraid

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

हबीब जालिब

मैं नहीं मानता मैं नहीं जानता | हबीब जालिब

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

रिश्ते नए पुराने

मक़सूद इब्राहीम बेकोफ़ 

1986 कहानी

Shumara Number-012

अबरार रहमानी 

2010 आज कल

सर सय्यद लेख संचयन

अतीक़ अहमद सिद्दीक़ी 

1990 लेख

Angare

सज्जाद ज़हीर 

प्रतिबंधित पुस्तकें

Deewan Hamd-e-izadi

मुफ़्ती ग़ुलाम सरवर लाहोरी 

1909 दीवान

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा