आज के चुनिन्दा 5 शेर

चमन में रखते हैं काँटे भी इक मक़ाम दोस्त

फ़क़त गुलों से ही गुलशन की आबरू तो नहीं

उम्मीद फ़ाज़ली

दिल पागल है रोज़ नई नादानी करता है

आग में आग मिलाता है फिर पानी करता है

इफ़्तिख़ार आरिफ़

मिलने की तरह मुझ से वो पल भर नहीं मिलता

दिल उस से मिला जिस से मुक़द्दर नहीं मिलता

नसीर तुराबी

अपनी अना की आज भी तस्कीन हम ने की

जी भर के उस के हुस्न की तौहीन हम ने की

इक़बाल साजिद

पाक होगा कभी हुस्न इश्क़ का झगड़ा

वो क़िस्सा है ये कि जिस का कोई गवाह नहीं

हैदर अली आतिश
  • शेयर कीजिए
आज का शब्द

आसेब

  • aaseb
  • آسیب

शब्दार्थ

evil spirit

जाने कौन सा आसेब दिल में बस्ता है

कि जो भी ठहरा वो आख़िर मकान छोड़ गया

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन, 19वीं सदी की उर्दू ग़ज़ल का रौशन सितारा।

पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

जावेद अख़्तर

Kuch Ishq Kiya Kuch Kaam Kiya I Javed Akhtar with Atika Ahmad Farooqui I Jashn-e-Rekhta 2017

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

Muraqqa-e-Zaban-o-Bayan Dehli

सय्यद अहमद देहलवी 

1916

Kulliyat Deewan Jafar Zatalli

ज़ाफ़र जटली 

Fahrist-e-Makhtutat Congeress Library America

अब्बास रज़ा नय्यर 

2015 पाण्डुलिपि

Deewan-e-Chirkin

शैख़ बाक़र अली चिरकीन 

1925 दीवान

Shumara Number-001,002: Khas Number: January

मोहम्मद ग़ज़नफ़र अली ख़ाँ 

1982 Nishan-e-Manzil,Bhopal

अनय ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Favorite added successfully

Favorite removed successfully