फख्र ज़मान के संपूर्ण

शेर 2

सर्दी है कि इस जिस्म से फिर भी नहीं जाती

सूरज है कि मुद्दत से मिरे सर पर खड़ा है

अब तक तिरे होंटों पे तबस्सुम का गुमाँ है

हम को तो है महबूब यही आध-खिला फूल

 

ग़ज़ल 13

पुस्तकें 7

bainul-Aqwami Adab

 

2008

Kal-Adam Tahreerein

 

1995

Kaladam Tahriren

 

1987

पंजाब पंजाबी और पंजाबियत

तारीख़, सियासत, सक़ाफ़त और अदब की दस्तावेज़

2003

Qaidi

 

1989

रास्ते की धूल

 

1995

चहार-सू

Shumara Number-000

2013

 

"लाहौर" के और लेखक

  • मोहम्मद यूनुस बट मोहम्मद यूनुस बट
  • नईम बेग नईम बेग
  • इन्तिज़ार हुसैन इन्तिज़ार हुसैन
  • एरुज मुबारक एरुज मुबारक
  • मुस्तनसिर हुसैन तारड़ मुस्तनसिर हुसैन तारड़
  • ज़फ़र अली ख़ाँ ज़फ़र अली ख़ाँ
  • तसनीम मिंटो तसनीम मिंटो
  • मौलवी सय्यद मुमताज़ अली मौलवी सय्यद मुमताज़ अली
  • नीलम अहमद बशीर नीलम अहमद बशीर
  • अनीस नागी अनीस नागी