aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Premchand's Photo'

प्रेमचंद

1880 - 1936 | बनारस, भारत

उर्दू हिंदी के पहले सशक्त फ़िक्शन-निगार, जिन्होंने उपन्यास और कहानी के माध्यम से समाजी सरोकारों को कलात्मक अभिव्यक्ति दी। उपन्यास-सम्राट के रूप में सर्वविदित।

उर्दू हिंदी के पहले सशक्त फ़िक्शन-निगार, जिन्होंने उपन्यास और कहानी के माध्यम से समाजी सरोकारों को कलात्मक अभिव्यक्ति दी। उपन्यास-सम्राट के रूप में सर्वविदित।

प्रेमचंद

कहानी 63

लेख 13

उद्धरण 31

दौलत से आदमी को जो इज़्ज़त मिलती है वह उसकी नहीं, उसकी दौलत की इज़्ज़त होती है।

  • शेयर कीजिए

मैं एक मज़दूर हूँ, जिस दिन कुछ लिख लूँ उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक़ नहीं।

  • शेयर कीजिए

सोने और खाने का नाम ज़िंदगी नहीं है। आगे बढ़ते रहने की लगन का नाम ज़िंदगी है।

  • शेयर कीजिए

मायूसी मुम्किन को भी ना-मुम्किन बना देती है।

  • शेयर कीजिए

शायरी का आला-तरीन फ़र्ज़ इन्सान को बेहतर बनाना है।

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 287

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित लेखक

"बनारस" के और लेखक

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए