मोहम्मद अल्वी की मुन्तख़ब 10 नज़्में

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित

1.03K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

आख़िरी दिन की तलाश

ख़ुदा ने क़ुरआन में कहा है

मोहम्मद अल्वी

जन्म दिन

साल में इक बार आता है

मोहम्मद अल्वी

घर

अब मैं घर में पाँव नहीं रखूँगा कभी

मोहम्मद अल्वी

मछली की बू

बिस्तर में लेटे लेटे

मोहम्मद अल्वी

ख़ाली मकान

जाले तने हुए हैं घर में कोई नहीं

मोहम्मद अल्वी

घोड़े पर इक लाश

गूँज उठी सारी वादी ज़ख़्मी घोड़े की टापों से

मोहम्मद अल्वी

ड्रैकुला

कमरे की दीवार तोड़ कर मेरे सामने आया था

मोहम्मद अल्वी