अमीक़ हनफ़ी शायरी

आधुनिक उर्दू शायरी और आलोचना का महत्वपूर्ण नाम। भारतीय दर्शन और संगीत से गहरी दिलचस्पी। आल इंडिया रेडियो से संबंधित थे।

43
Favorite

एक ख़्वाहिश

तेरा चेहरा सादा काग़ज़

अमीक़ हनफ़ी

तशन्नुज

आज किस आलम में हैं अहबाब मेरे

अमीक़ हनफ़ी

उबाल

ये हाँडी उबलने लगी

अमीक़ हनफ़ी

Added to your favorites

Removed from your favorites