निदा फ़ाज़ली शायरी

महत्वपूर्ण आधुनिक शायर और फ़िल्म गीतकार। अपनी ग़ज़ल ' कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता ' के लिए प्रसिध्द।

361
Favorite

Sort by

वालिद की वफ़ात पर

तुम्हारी क़ब्र पर

निदा फ़ाज़ली

खेलता बच्चा

घास पर खेलता है इक बच्चा

निदा फ़ाज़ली

बूढ़ा

हर माँ अपनी कोख से

निदा फ़ाज़ली

Added to your favorites

Removed from your favorites