सारा शगुफ़्ता की 10 मशहूर नज़्में

अपने अपारम्परिक विचारों के लिए मशहूर पाकिस्तानी शायरा। कम उम्र में आत्महत्या की।

439
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

आधा कमरा

उस ने इतनी किताबें चाट डालीं

सारा शगुफ़्ता

चाँद का क़र्ज़

हमारे आँसुओं की आँखें बनाई गईं

सारा शगुफ़्ता

औरत और नमक

इज़्ज़त की बहुत सी क़िस्में हैं

सारा शगुफ़्ता

शैली बेटी के नाम

तुझे जब भी कोई दुख दे

सारा शगुफ़्ता

परिंदे की आँख खुल जाती है

किसी परिंदे की रात पेड़ पर फड़फड़ाती है

सारा शगुफ़्ता

परिंदा कमरे में रह गया

रात ने जब घड़ियों से वक़्त उठा लिया

सारा शगुफ़्ता

साए की ख़ामोशी

साए की ख़ामोशी सिर्फ़ ज़मीन सहती है

सारा शगुफ़्ता

चराग़ जब मेरा कमरा नापता है

चराग़ ने फूल को जन्म देना शुरूअ' कर दिया है

सारा शगुफ़्ता

च्यूँटी-भर आटा

हम किस दुख से अपने मकान फ़रोख़्त करते हैं

सारा शगुफ़्ता