शेर

विषयानुसार हज़ारों लोकप्रिय शेर


  • ये हक़ीक़त है कि अहबाब को हम
    याद ही कब थे जो अब याद नहीं

    नासिर काज़मी

  • हाल-ए-दिल यार को लिखूँ क्यूँकर
    हाथ दिल से जुदा नहीं होता

    मोमिन ख़ाँ मोमिन

  • दिल के फफूले जल उठे सीने के दाग़ से
    इस घर को आग लग गई घर के चराग़ से

    महताब राय ताबां

  • मैं भी कुछ ख़ुश नहीं वफ़ा कर के
    तुम ने अच्छा किया निबाह न की

    मोमिन ख़ाँ मोमिन

  • नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
    मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

    अल्लामा इक़बाल

  • फ़रिश्ते से बढ़ कर है इंसान बनना
    मगर इस में लगती है मेहनत ज़ियादा

    अल्ताफ़ हुसैन हाली

  • चाहिए ख़ुद पे यक़ीन-ए-कामिल
    हौसला किस का बढ़ाता है कोई

    शकील बदायुनी

  • आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़'
    जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

    फ़िराक़ गोरखपुरी

  • सख़्त काफ़िर था जिन ने पहले 'मीर'
    मज़हब-ए-इश्क़ इख़्तियार किया

    मीर तक़ी मीर

  • आज पी लेने दे जी लेने दे मुझ को साक़ी
    कल मिरी रात ख़ुदा जाने कहाँ गुज़रेगी

    वसीम बरेलवी

  • मैं तो बर्बाद हो गया हूँ मगर
    अब किसी को न आसरा देना

    अज्ञात

  • वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
    आदत इस की भी आदमी सी है

    गुलज़ार

  • न ग़रज़ किसी से न वास्ता मुझे काम अपने ही काम से
    तिरे ज़िक्र से तिरी फ़िक्र से तिरी याद से तिरे नाम से

    जिगर मुरादाबादी

  • आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
    भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है

    वसीम बरेलवी

  • गुज़र जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
    चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है

    अल्लामा इक़बाल

चित्रित शायरी

शायरी की सैकड़ों खूबसूरत तस्वीरें शेयर कीजिए

सम्पूर्ण

टैग