शेर

विषयानुसार हज़ारों लोकप्रिय शेर


  • बच जाए जवानी में जो दुनिया की हवा से
    होता है फ़रिश्ता कोई इंसाँ नहीं होता

    रियाज़ ख़ैराबादी

  • मैं और बज़्म-ए-मय से यूँ तिश्ना-काम आऊँ
    गर मैं ने की थी तौबा साक़ी को क्या हुआ था

    मिर्ज़ा ग़ालिब

  • हुआ है चार सज्दों पर ये दावा ज़ाहिदो तुम को
    ख़ुदा ने क्या तुम्हारे हाथ जन्नत बेच डाली है

    दाग़ देहलवी

  • ख़ुदा से क्या मोहब्बत कर सकेगा
    जिसे नफ़रत है उस के आदमी से

    नरेश कुमार शाद

  • जिस में लाखों बरस की हूरें हों
    ऐसी जन्नत को क्या करे कोई

    दाग़ देहलवी

  • रोज़ सोचा है भूल जाऊँ तुझे
    रोज़ ये बात भूल जाता हूँ

    अज्ञात

  • इश्क़ जब तक न कर चुके रुस्वा
    आदमी काम का नहीं होता

    जिगर मुरादाबादी

  • दैर ओ हरम में चैन जो मिलता
    क्यूँ जाते मय-ख़ाने लोग

    महेन्द्र सिंह बेदी सहर

  • इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन
    देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

  • लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
    तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में

    बशीर बद्र

  • बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा
    क़हर होता जो बा-वफ़ा होता

    मीर तक़ी मीर

  • मौत का एक दिन मुअय्यन है
    नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

    मिर्ज़ा ग़ालिब

  • गोग्गल लगा के आँख पर चलने लगे हसीन
    वो लुत्फ़ अब कहाँ निगह-ए-नीम-बाज़ का

    हाशिम अज़ीमाबादी

  • उन का ग़म उन का तसव्वुर उन की याद
    कट रही है ज़िंदगी आराम से

    महशर इनायती

  • ये फ़ित्ना आदमी की ख़ाना-वीरानी को क्या कम है
    हुए तुम दोस्त जिस के दुश्मन उस का आसमाँ क्यूँ हो

    मिर्ज़ा ग़ालिब

चित्रित शायरी

शायरी की सैकड़ों खूबसूरत तस्वीरें शेयर करें

सम्पूर्ण

टैग्ज़