शेर

विषयानुसार हज़ारों लोकप्रिय शेर


  • सफ़र में ऐसे कई मरहले भी आते हैं
    हर एक मोड़ पे कुछ लोग छूट जाते हैं

    आबिद अदीब

  • उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
    न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

    बशीर बद्र

  • क्या जाने क्या लिखा था उसे इज़्तिराब में
    क़ासिद की लाश आई है ख़त के जवाब में

    मोमिन ख़ाँ मोमिन

  • ये आरज़ू भी बड़ी चीज़ है मगर हमदम
    विसाल-ए-यार फ़क़त आरज़ू की बात नहीं

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

  • बोतलें खोल कर तो पी बरसों
    आज दिल खोल कर भी पी जाए

    राहत इंदौरी

  • वो इत्र-दान सा लहजा मिरे बुज़ुर्गों का
    रची-बसी हुई उर्दू ज़बान की ख़ुश्बू

    बशीर बद्र

  • आगाह अपनी मौत से कोई बशर नहीं
    सामान सौ बरस का है पल की ख़बर नहीं

    हैरत इलाहाबादी

  • ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
    ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

    अल्लामा इक़बाल

  • ना-ख़ुदा ने मुझे दलदल में फंसाए रक्खा
    डूब मरने न दिया पार उतरने न दिया

    अज्ञात

  • तंग-दस्ती अगर न हो 'सालिक'
    तंदुरुस्ती हज़ार नेमत है

    क़ुर्बान अली सालिक बेग

  • जिस को ख़ुश रहने के सामान मयस्सर सब हों
    उस को ख़ुश रहना भी आए ये ज़रूरी तो नहीं

    अज्ञात

  • वो बात सारे फ़साने में जिस का ज़िक्र न था
    वो बात उन को बहुत ना-गवार गुज़री है

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

  • पहले सौ बार इधर उधर देखा
    तब तुझे डर के इक नज़र देखा

    सय्यद मोहम्मद असर

  • बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं
    तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं

    फ़िराक़ गोरखपुरी

  • ग़ैर को आने न दूँ तुम को कहीं जाने न दूँ
    काश मिल जाए तुम्हारे घर की दरबानी मुझे

    अज्ञात

चित्रित शायरी

शायरी की सैकड़ों खूबसूरत तस्वीरें शेयर कीजिए

सम्पूर्ण

टैग