शेर

विषयानुसार हज़ारों लोकप्रिय शेर


  • वो मिल गया तो बिछड़ना पड़ेगा फिर 'ज़र्रीं'
    इसी ख़याल से हम रास्ते बदलते रहे

    इफ़्फ़त ज़र्रीं

  • हम ख़ुदा के कभी क़ाइल ही न थे
    उन को देखा तो ख़ुदा याद आया

    अज्ञात

  • ऐ 'ज़ौक़' देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा
    छुटती नहीं है मुँह से ये काफ़र लगी हुई

    शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

  • इस क़दर था खटमलों का चारपाई में हुजूम
    वस्ल का दिल से मिरे अरमान रुख़्सत हो गया

    अकबर इलाहाबादी

  • मौत से क्यूँ इतनी वहशत जान क्यूँ इतनी अज़ीज़
    मौत आने के लिए है जान जाने के लिए

    अज्ञात

  • और क्या देखने को बाक़ी है
    आप से दिल लगा के देख लिया

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

  • शर्तें लगाई जाती नहीं दोस्ती के साथ
    कीजे मुझे क़ुबूल मिरी हर कमी के साथ

    वसीम बरेलवी

  • ये उम्र भर का सफ़र है इसी सहारे पर
    कि वो खड़ा है अभी दूसरे किनारे पर

    साबिर वसीम

  • रोज़ सोचा है भूल जाऊँ तुझे
    रोज़ ये बात भूल जाता हूँ

    अज्ञात

  • कहीं वो आ के मिटा दें न इंतिज़ार का लुत्फ़
    कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी

    हसरत जयपुरी

  • बोतलें खोल कर तो पी बरसों
    आज दिल खोल कर भी पी जाए

    राहत इंदौरी

  • इक वही शख़्स मुझ को याद रहा
    जिस को समझा था भूल जाऊँगा

    सलमान अख़्तर

  • अब तो उतनी भी मयस्सर नहीं मय-ख़ाने में
    जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में

    दिवाकर राही

  • ये कहाँ की दोस्ती है कि बने हैं दोस्त नासेह
    कोई चारासाज़ होता कोई ग़म-गुसार होता

    मिर्ज़ा ग़ालिब

  • इक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है
    सिमटे तो दिल-ए-आशिक़ फैले तो ज़माना है

    जिगर मुरादाबादी

चित्रित शायरी

शायरी की सैकड़ों खूबसूरत तस्वीरें शेयर कीजिए

सम्पूर्ण

टैग