शेर

विषयानुसार हज़ारों लोकप्रिय शेर


  • वफ़ा जिस से की बेवफ़ा हो गया
    जिसे बुत बनाया ख़ुदा हो गया

    हफ़ीज़ जालंधरी

  • जिन के आँगन में अमीरी का शजर लगता है
    उन का हर ऐब ज़माने को हुनर लगता है

    अंजुम रहबर

  • बोतलें खोल कर तो पी बरसों
    आज दिल खोल कर भी पी जाए

    राहत इंदौरी

  • तअल्लुक़ आशिक़ ओ माशूक़ का तो लुत्फ़ रखता था
    मज़े अब वो कहाँ बाक़ी रहे बीवी मियाँ हो कर

    अकबर इलाहाबादी

  • नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
    मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

    अल्लामा इक़बाल

  • कुछ इस तरह से गुज़ारी है ज़िंदगी जैसे
    तमाम उम्र किसी दूसरे के घर में रहा

    अहमद फ़राज़

  • तर्क-ए-मय ही समझ इसे नासेह
    इतनी पी है कि पी नहीं जाती

    शकील बदायुनी

  • रह गए सब्हा ओ ज़ुन्नार के झगड़े बाक़ी
    धर्म हिन्दू में नहीं दीन मुसलमाँ में नहीं

    अज्ञात

  • जिस में लाखों बरस की हूरें हों
    ऐसी जन्नत को क्या करे कोई

    दाग़ देहलवी

  • ग़ैर ने तुम को जाँ कहा समझे भी कुछ कि क्या कहा
    यानी कि बेवफ़ा कहा जाँ का ए'तिबार क्या

    अज्ञात

  • बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे
    होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे

    मिर्ज़ा ग़ालिब

  • यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है
    हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है

    मंज़ूर हाशमी

  • मैं अपने साथ रहता हूँ हमेशा
    अकेला हूँ मगर तन्हा नहीं हूँ

    अज्ञात

  • सारी दुनिया ये समझती है कि सौदाई है
    अब मिरा होश में आना तिरी रुस्वाई है

    मोहम्मद अली जौहर

  • तुम भूल कर भी याद नहीं करते हो कभी
    हम तो तुम्हारी याद में सब कुछ भुला चुके

    शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

चित्रित शायरी

शायरी की सैकड़ों खूबसूरत तस्वीरें शेयर कीजिए

सम्पूर्ण

टैग