दिल्ली के शायर और अदीब

कुल: 830

नज़्म के जाने माने शायर

क़ौमी, सामाजिक और देश की आज़ादी की भावना से समर्पित नज़्मों के लिए प्रसिद्धके. लम्बे अरसे तक उर्दू-फ़ारसी के उस्ताद रहे

बोलिए