Neelma Sarwar's Photo'

नीलमा सरवर

नज़्म 4

 

शेर 2

औरत अपना आप बचाए तब भी मुजरिम होती है

औरत अपना आप गँवाए तब भी मुजरिम होती है

  • शेयर कीजिए

कोई तो आए ख़िज़ाँ में पत्ते उगाने वाला

गुलों की ख़ुशबू को क़ैद करना कोई तो सीखे

  • शेयर कीजिए
 

ई-पुस्तक 1

Jab Tak Aankhen Zinda Hain

 

1986