ग़ज़ल - एहसास की सतह पर

किसी भी कविता में कई

अर्थ निकाले जा सकते हैं | ग़ज़लों के साथ ये म'आनी की सतह पर तो है ही, साथ ही एहसास की सतह पर भी है | यहाँ दी जा रही ग़ज़लों को पढ़ कर आप ख़ुद अंदाज़ा लगा सकते हैं |