ADVERTISEMENT

दुनिया पर उद्धरण

दुनिया को हम सबने अपनी

अपनी आँख से देखा और बर्ता है इस अमल में बहुत कुछ हमारा अपना है जो किसी और का नहीं और बहुत कुछ हमसे छूट गया है। दुनिया को मौज़ू बनाने वाले इस ख़ूबसूरत शेरी इन्तिख़ाब को पढ़ कर आप दुनिया से वाबस्ता ऐसे इसरार से वाक़िफ़ होंगे जिन तक रसाई सिर्फ़ तख़्लीक़ी अज़हान ही का मुक़द्दर है। इन अशआर को पढ़ कर आप दुनियाँ को एक बड़े सियाक़ में देखने के अहल होंगे।

ये कायनात बेहद हसीन है मगर उनके लिए जो जीना जानते हैं।

मुशर्रफ़ आलम ज़ौक़ी
ADVERTISEMENT