ADVERTISEMENT

रात पर ग़ज़लें

दिन की भाग-दौड़ और बेचैनियों

को अगर रात का आसरा न हो तो ज़िन्दगी ख़्वाब देखने को भी तरस जाए। रात का अंधेरा और सन्नाटा जितना भी भयानक हो शायरों ने इसे पूरी ईमानदारी के साथ हर रूप में देखा और दिखाया है। लफ़्ज़ जब शायरी में दाख़िल होते हैं तो अपनी हदों को लाँघते हुए कई दुनियाओं की सैर कर आते हैं। रात शायरी को पढ़ते हुए भी आप ऐसा ही महसूस करेंगे, हमें यक़ीन हैः

आप की याद आती रही रात भर

मख़दूम मुहिउद्दीन
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

फ़ैसला हो गया है रात गए

नईम जर्रार अहमद
ADVERTISEMENT

सुब्ह को हश्र भी है कट गई गर आज की रात

मुंशी नौबत राय नज़र लखनवी