ADVERTISEMENT

रूढ़िबद्ध समाज पर उद्धरण

शरीफ़ घरानों में आई हुई दुल्हन और जानवर तो मर कर ही निकलते हैं।

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी
ADVERTISEMENT