आज के चुनिन्दा 5 शेर

अच्छी सूरत भी क्या बुरी शय है

जिस ने डाली बुरी नज़र डाली

आलमगीर ख़ान कैफ़
  • शेयर कीजिए

रुख़-ए-रौशन के आगे शम्अ रख कर वो ये कहते हैं

उधर जाता है देखें या इधर परवाना आता है

दाग़ देहलवी
  • शेयर कीजिए

चाँद से तुझ को जो दे निस्बत सो बे-इंसाफ़ है

चाँद के मुँह पर हैं छाईं तेरा मुखड़ा साफ़ है

शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • शेयर कीजिए

दुश्मनी का सफ़र इक क़दम दो क़दम

तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएँगे

बशीर बद्र
  • शेयर कीजिए

इन्ही ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा

अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है

अख़्तर शीरानी
  • शेयर कीजिए
आज का शब्द

आबशार

  • aabshaar
  • آبشار

शब्दार्थ

waterfall

उस संग-दिल के हिज्र में चश्मों को अपने आह

मानिंद-ए-आबशार किया हम ने क्या किया

शब्दकोश

क्या आप जानते हैं?

Dastan-e-Ameer

मौखिक रूप से कही जाने वाली अब तक की सबसे लोकप्रिय दास्तान "दास्तान-ए-अमीर हम्ज़ा" है। इसे नवल किशोर प्रेस लखनऊ ने 46 खंडों में प्रकाशित किया है, प्रत्येक खंड में एक हज़ार पृष्ठ हैं।

आर्काइव

आज की प्रस्तुति

सुदर्शन कामरा , कई फ़िल्मों के लिए गीत लिखे

कुछ तो दुनिया की इनायात ने दिल तोड़ दिया

और कुछ तल्ख़ी-ए-हालात ने दिल तोड़ दिया

this world's "benefaction" broke my heart to some extent

and then by bitter circumstance partly my heart was rent

this world's "benefaction" broke my heart to some extent

and then by bitter circumstance partly my heart was rent

पूर्ण ग़ज़ल देखें

रेख़्ता ब्लॉग

पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

औरंग ज़ेब

Main Ne Jab Baat Ki Mohabbat Ki | Aurangzeb Shayari | Rekhta Studio

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

Kulliyat-e-Anwar Shaoor

अनवर शऊर 

2015 महाकाव्य

Mughal Tahzeeb

महबूब-उल्लाह मुजीब 

1965

Shumara Number-002

डॉ. मोहम्मद हसन 

1970 असरी अदब

Audhoot Ka Tarana

 

1958 नज़्म

Iqbal Dulhan

बशीरुद्दीन अहमद देहलवी 

1908 शिक्षाप्रद

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा