पसंदीदा विडियो

इस विडियो को शेयर कीजिए

आज के टॉप 5

शब-ए-फ़ुर्क़त कर मुझ पर अज़ाब

मैं ने तेरा मुँह नहीं काला किया

रिन्द लखनवी

शम्अ' तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह

मैं ने तमाम उम्र गुज़ारी है इस तरह

नातिक़ लखनवी
  • शेयर कीजिए

दिया ख़ामोश है लेकिन किसी का दिल तो जलता है

चले आओ जहाँ तक रौशनी मालूम होती है

the lamp's extinguised but someone's heart

the lamp's extinguised but someone's heart

नुशूर वाहिदी

हम आप क़यामत से गुज़र क्यूँ नहीं जाते

जीने की शिकायत है तो मर क्यूँ नहीं जाते

महबूब ख़िज़ां

इन अंधेरों से परे इस शब-ए-ग़म से आगे

इक नई सुब्ह भी है शाम-ए-अलम से आगे

इशरत क़ादरी
आर्काइव
आज का शब्द

बहिश्त

  • bahisht
  • بہشت

शब्दार्थ

Paradise/ Heaven

बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ

कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर

Why did you bid me leave from paradise for now

My work is yet unfinished here so you wil have to wait

Why did you bid me leave from paradise for now

My work is yet unfinished here so you wil have to wait

शब्द शेयर कीजिए

आर्काइव

जश्न

जन्मदिन

सम्पूर्ण सिंह/प्रमुख फि़ल्म निर्माता और निर्देशक, फि़ल्म गीतकार और कहानीकार/मिजऱ्ा गालिब पर टीवी सीरियल के लिए प्रसिद्ध/साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा

क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा

पूर्ण ग़ज़ल देखें

गुलज़ार के बारे में शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

उर्दू साहित्य का सबसे बड़ा ऑनलाइन संग्रह

शुमारा नम्बर-275

अक़ीला शाहीन 

2003 शब ख़ून

अाख़िरे शब

कैफ़ी आज़मी 

1947

अंगारे

ख़ालिद अल्वी 

2013 कि़स्सा-दास्तान

किंग लेअर

विलियम शेक्सपीयर 

नाटक / ड्रामा

फ़िराक़ के लतीफ़े

मुश्ताक़ नक़वी 

1982 हास्य-व्यंग

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

300+

ग़ज़लें

अभी पढ़िए

1300+

ई-पुस्तक

अभी पढ़िए

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Favroite added successfully

Favroite removed successfully