Premchand's Photo'

प्रेमचंद

1880 - 1936 | बनारस, भारत

कहानी 62

लेख 13

उद्धरण 31

दौलत से आदमी को जो इज़्ज़त मिलती है वह उसकी नहीं, उसकी दौलत की इज़्ज़त होती है।

  • शेयर कीजिए

सोने और खाने का नाम ज़िंदगी नहीं है। आगे बढ़ते रहने की लगन का नाम ज़िंदगी है।

  • शेयर कीजिए

मैं एक मज़दूर हूँ, जिस दिन कुछ लिख लूँ उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक़ नहीं।

  • शेयर कीजिए

मायूसी मुम्किन को भी ना-मुम्किन बना देती है।

  • शेयर कीजिए

शायरी का आला-तरीन फ़र्ज़ इन्सान को बेहतर बनाना है।

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 192

आहंग-ए-ग़ालिब

 

 

Aakhiri Tohfa

 

1939

Aakhiri Tohfa

 

 

अफ़्साना निगार प्रेम चंद

तन्क़ीदी व समाजी मुहाकमा

2006

अाज़ादी की मंज़िल तक

 

 

Bazar-e-Husn

 

1956

Bazar-e-Husn

 

1987

Bewa

 

1941

Bewa

 

1955

Chaugan-e-Hasti

Part-001

1935

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित लेखक

  • सुदरशन सुदरशन समकालीन

"बनारस" के और लेखक

  • वसीम हैदर हाश्मी वसीम हैदर हाश्मी
  • याक़ूब यावर याक़ूब यावर
  • नफ़ीस बानो नफ़ीस बानो
  • हनीफ़ नक़वी हनीफ़ नक़वी