हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BY मिर्ज़ा ग़ालिब

    हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले

    बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

    I have a thousand yearnings , each one afflicts me so

    Many were fulfilled for sure, not enough although

    डरे क्यूँ मेरा क़ातिल क्या रहेगा उस की गर्दन पर

    वो ख़ूँ जो चश्म-ए-तर से उम्र भर यूँ दम-ब-दम निकले

    Why is my murderer afraid would she have to account

    For blood that ceaselessly, from these eyes does flow

    निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन

    बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

    From Eden, of Adam's exile, I am familiar, though

    Greatly humiliated from your street didI have to go

    भरम खुल जाए ज़ालिम तेरे क़ामत की दराज़ी का

    अगर इस तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-ख़म का पेच-ओ-ख़म निकले

    O cruel one, illusions of your stature all will know

    If those devious curls of yours could straighten arow

    मगर लिखवाए कोई उस को ख़त तो हम से लिखवाए

    हुई सुब्ह और घर से कान पर रख कर क़लम निकले

    If someone wants to write to her, on me this task bestow

    Since morning I am roaming with a pen upon my brow

    हुई इस दौर में मंसूब मुझ से बादा-आशामी

    फिर आया वो ज़माना जो जहाँ में जाम-ए-जम निकले

    The rites of drinking at this time with me associate

    Days are here now again when Jamshed's wine does flow

    हुई जिन से तवक़्क़ो' ख़स्तगी की दाद पाने की

    वो हम से भी ज़ियादा ख़स्ता-ए-तेग़-ए-सितम निकले

    For my injuries, from those that, praise I did expect

    They too turned out to be wounded, actually more so

    मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का

    उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

    In love there is no difference 'tween life and death do know

    The very one for whom I die, life too does bestow

    कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा 'ग़ालिब' और कहाँ वाइ'ज़

    पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

    Wherefrom the 'saintly' priest, and where the tavern's door

    But as I entered he was leaving, this much I do know

    वीडियो

    Videos

    आबिदा परवीन

    आबिदा परवीन

    जगजीत सिंह

    जगजीत सिंह

    फ़्रांसेस डब्ल्यू प्रीचेट

    फ़्रांसेस डब्ल्यू प्रीचेट

    अनुराधा पौडवाल

    अनुराधा पौडवाल

    सी एच आत्मा

    सी एच आत्मा

    शैली कपूर

    शैली कपूर

    फरीहा परवेज़

    फरीहा परवेज़

    सुदीप बनर्जी

    सुदीप बनर्जी

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    नोमान शौक़

    हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले नोमान शौक़

    Critique mode ON

    Tap on any word to submit a critique about that line. Word-meanings will not be available while you’re in this mode.

    OKAY

    SUBMIT CRITIQUE

    नाम

    ई-मेल

    टिप्पणी

    Thanks, for your feedback

    Critique draft saved

    EDIT DISCARD

    CRITIQUE MODE ON

    TURN OFF

    Discard saved critique?

    CANCEL DISCARD

    CRITIQUE MODE ON - Click on a line of text to critique

    TURN OFF

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Favorite added successfully

    Favorite removed successfully