कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन गुलशन में गवारा करते हैं

क़मर जलालवी

कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन गुलशन में गवारा करते हैं

क़मर जलालवी

MORE BYक़मर जलालवी

    कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन गुलशन में गवारा करते हैं

    ग़ुंचे अपनी आवाज़ों में बिजली को पुकारा करते हैं

    when did the people in the park, my humble refuge like?

    buds in their voices shrill and stark, bid lightning to strike

    अब नज़्अ' का आलम है मुझ पर तुम अपनी मोहब्बत वापस लो

    जब कश्ती डूबने लगती है तो बोझ उतारा करते हैं

    my end is near I'm on the brink, take back the love bestowed

    whenever a ship's about to sink, it's prudent to unload

    जाती हुई मय्यत देख के भी वल्लाह तुम उठ के सके

    दो चार क़दम तो दुश्मन भी तकलीफ़ गवारा करते हैं

    inspite of seeing my hearse go by, she did not condescend

    at such times even foes comply, take trouble to attend

    बे-वजह जाने क्यूँ ज़िद है उन को शब-ए-फ़ुर्क़त वालों से

    वो रात बढ़ा देने के लिए गेसू को सँवारा करते हैं

    ----

    ----

    पोंछो अरक़ रुख़्सारों से रंगीनी-ए-हुस्न को बढ़ने दो

    सुनते हैं कि शबनम के क़तरे फूलों को निखारा करते हैं

    wipe not the droplets from your face, let beauty's lustre grow

    drops of dew when flowers grace, enhance their freshness so

    कुछ हुस्न इश्क़ में फ़र्क़ नहीं है भी तो फ़क़त रुस्वाई का

    तुम हो कि गवारा कर सके हम हैं कि गवारा करते हैं

    ----

    ----

    तारों की बहारों में भी 'क़मर' तुम अफ़्सुर्दा से रहते हो

    फूलों को तो देखो काँटों में हँस हँस के गुज़ारा करते हैं

    tho starry climes and sunlit morns, you stay mournful, pining

    see these flowers despite the thorns,stay radiant and shining

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    हबीब वली मोहम्मद

    हबीब वली मोहम्मद

    RECITATIONS

    क़मर जलालवी

    क़मर जलालवी

    क़मर जलालवी

    कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन गुलशन में गवारा करते हैं क़मर जलालवी

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY