मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

अनवर मिर्ज़ापुरी

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

अनवर मिर्ज़ापुरी

MORE BYअनवर मिर्ज़ापुरी

    मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल जाए

    झुकाओ तुम निगाहें कहीं रात ढल जाए

    i am feasting from thine eyes, pray let this aspect be

    lower not your eyes my love, or else this night may flee

    मिरे अश्क भी हैं इस में ये शराब उबल जाए

    मिरा जाम छूने वाले तिरा हाथ जल जाए

    my tears too this does contain,this wine may start to boil

    be careful for my goblet burns with rare intensity

    अभी रात कुछ है बाक़ी उठा नक़ाब साक़ी

    तिरा रिंद गिरते गिरते कहीं फिर सँभल जाए

    as yet the night does linger on do not remove your veil

    lest your besotten follower re-gains stability

    मिरी ज़िंदगी के मालिक मिरे दिल पे हाथ रखना

    तिरे आने की ख़ुशी में मिरा दम निकल जाए

    place your hand upon my heart, o master of my life

    lest the joy of your approach becomes the end of me

    मुझे फूँकने से पहले मिरा दिल निकाल लेना

    ये किसी की है अमानत मिरे साथ जल जाए

    please remove my heart before i am consigned to flames

    As it belongs to someone else it should not burn with me

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    इक़बाल बानो

    इक़बाल बानो

    मुन्नी बेगम

    मुन्नी बेगम

    उस्उताद म्मीद अली ख़ान

    उस्उताद म्मीद अली ख़ान

    इक़बाल बानो

    इक़बाल बानो

    उस्उताद म्मीद अली ख़ान

    उस्उताद म्मीद अली ख़ान

    Pooja Mehra Gupta

    Pooja Mehra Gupta

    मेहदी हसन

    मेहदी हसन

    संबंधित टैग:

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY