ADVERTISEMENT

शराब पर ग़ज़लें

अगर आपको बस यूँही बैठे

बैठे ज़रा सा झूमना है तो शराब शायरी पर हमारा ये इन्तिख़ाब पढ़िए। आप महसूस करेंगे कि शराब की लज़्ज़त और इस के सरूर की ज़रा सी मिक़दार उस शायरी में भी उतर आई है। ये शायरी आपको मज़ा तो देगी ही, साथ में हैरान भी करेगी कि शराब जो ब-ज़ाहिर बे-ख़ुदी और सुरूर बख़्शती है, शायरी मैं किस तरह मानी की एक लामहदूद कायनात का इस्तिआरा बन गई है।

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

पी ली हम ने शराब पी ली

रियाज़ ख़ैराबादी
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT