उन की बे-रुख़ी में भी इल्तिफ़ात शामिल है

अमीर क़ज़लबाश

उन की बे-रुख़ी में भी इल्तिफ़ात शामिल है

अमीर क़ज़लबाश

MORE BY अमीर क़ज़लबाश

    उन की बे-रुख़ी में भी इल्तिफ़ात शामिल है

    आज कल मिरी हालत देखने के क़ाबिल है

    Even her indifference some kindness does contain

    My condition needs to be seen for I cannot explain

    क़त्ल हो तो मेरा सा मौत हो तो मेरी सी

    मेरे सोगवारों में आज मेरा क़ातिल है

    Today amongst my mourners, my murderer too grieves

    A death, a murder as was mine, all lovers should attain

    हर क़दम पे नाकामी हर क़दम पे महरूमी

    ग़ालिबन कोई दुश्मन दोस्तों में शामिल है

    It was as if amidst my friends there was an enemy

    A failure and deprived at every step did I remain

    मुज़्तरिब हैं मौजें क्यूँ उठ रहे हैं तूफ़ाँ क्यूँ

    क्या किसी सफ़ीने को आरज़ू-ए-साहिल है

    Why are the waves so agitated, why do storms unfold?

    Does a ship amidst the seas, seek the shores again?

    सिर्फ़ राहज़न ही से क्यूँ 'अमीर' शिकवा हो

    मंज़िलों की राहों में राहबर भी हाइल है

    When guides too are present in the journey's course

    Then only of highwaymen why should one complain?

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    उन की बे-रुख़ी में भी इल्तिफ़ात शामिल है नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY