शेर

शे’र या शायरी पर की जाने वाली शायरी की काफ़ी अहमियत है। शायरी की बारीकीयाँ बताने और इसका मक़सद बताने और शे’र-गोई के गुर सिखाने के लिए आज भी शायर अक्सर शे’र-गोई का ही सहारा लेते हैं। शे’र शायरी के इस अन्दाज़ से आपका तआरुफ़ चंद मिसालों के बग़ैर लुत्फ़ नहीं देगाः