शेर

शे’र या शायरी पर की जाने वाली शायरी की काफ़ी अहमियत है। शायरी की बारीकीयाँ बताने और इसका मक़सद बताने और शे’र-गोई के गुर सिखाने के लिए आज भी शायर अक्सर शे’र-गोई का ही सहारा लेते हैं। शे’र शायरी के इस अन्दाज़ से आपका तआरुफ़ चंद मिसालों के बग़ैर लुत्फ़ नहीं देगाः

दुनिया ने तजरबात हवादिस की शक्ल में

जो कुछ मुझे दिया है वो लौटा रहा हूँ मैं

साहिर लुधियानवी

अशआ'र मिरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं

कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं

जाँ निसार अख़्तर

खुलता किसी पे क्यूँ मिरे दिल का मोआमला

शेरों के इंतिख़ाब ने रुस्वा किया मुझे

मिर्ज़ा ग़ालिब

अपने लहजे की हिफ़ाज़त कीजिए

शेर हो जाते हैं ना-मालूम भी

निदा फ़ाज़ली

हज़ारों शेर मेरे सो गए काग़ज़ की क़ब्रों में

अजब माँ हूँ कोई बच्चा मिरा ज़िंदा नहीं रहता

बशीर बद्र

हम से पूछो कि ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या

चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए

जाँ निसार अख़्तर

शाएर को मस्त करती है तारीफ़-ए-शेर 'अमीर'

सौ बोतलों का नश्शा है इस वाह वाह में

अमीर मीनाई

अपनी रुस्वाई तिरे नाम का चर्चा देखूँ

इक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ

परवीन शाकिर

मुझ को शायर कहो 'मीर' कि साहब मैं ने

दर्द ग़म कितने किए जम्अ तो दीवान किया

call me not a poet, Miir, a million sorrows I

have collected to produce a

call me not a poet, Miir, a million sorrows I

have collected to produce a

मीर तक़ी मीर

रहता सुख़न से नाम क़यामत तलक है 'ज़ौक़'

औलाद से तो है यही दो पुश्त चार पुश्त

शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

है मश्क़-ए-सुख़न जारी चक्की की मशक़्क़त भी

इक तुर्फ़ा तमाशा है 'हसरत' की तबीअत भी

हसरत मोहानी

बंदिश-ए-अल्फ़ाज़ जड़ने से निगूँ के कम नहीं

शाएरी भी काम है 'आतिश' मुरस्सा-साज़ का

हैदर अली आतिश

छुपी है अन-गिनत चिंगारियाँ लफ़्ज़ों के दामन में

ज़रा पढ़ना ग़ज़ल की ये किताब आहिस्ता आहिस्ता

प्रेम भण्डारी

डाइरी में सारे अच्छे शेर चुन कर लिख लिए

एक लड़की ने मिरा दीवान ख़ाली कर दिया

ऐतबार साजिद

वही रह जाते हैं ज़बानों पर

शेर जो इंतिख़ाब होते हैं

अमीर मीनाई

ज़िंदगी भर की कमाई यही मिसरे दो-चार

इस कमाई पे तो इज़्ज़त नहीं मिलने वाली

इफ़्तिख़ार आरिफ़

शेर दर-अस्ल हैं वही 'हसरत'

सुनते ही दिल में जो उतर जाएँ

हसरत मोहानी

सुख़न में सहल नहीं जाँ निकाल कर रखना

ये ज़िंदगी है हमारी सँभाल कर रखना

उबैदुल्लाह अलीम

कहीं कहीं से कुछ मिसरे एक-आध ग़ज़ल कुछ शेर

इस पूँजी पर कितना शोर मचा सकता था मैं

इफ़्तिख़ार आरिफ़

ग़ज़ल का शेर तो होता है बस किसी के लिए

मगर सितम है कि सब को सुनाना पड़ता है

अज़हर इनायती

सौ शेर एक जलसे में कहते थे हम 'अमीर'

जब तक शेर कहने का हम को शुऊर था

अमीर मीनाई

'असग़र' ग़ज़ल में चाहिए वो मौज-ए-ज़िंदगी

जो हुस्न है बुतों में जो मस्ती शराब में

असग़र गोंडवी

लोग कहते हैं कि फ़न्न-ए-शाइरी मनहूस है

शेर कहते कहते मैं डिप्टी कलेक्टर हो गया

कल्ब-ए-हुसैन नादिर

मेरा हर शेर है इक राज़-ए-हक़ीक़त 'बेख़ुद'

मैं हूँ उर्दू का 'नज़ीरी' मुझे तू क्या समझा

बेख़ुद देहलवी

भूक तख़्लीक़ का टैलेंट बढ़ा देती है

पेट ख़ाली हो तो हम शेर नया कहते हैं

खालिद इरफ़ान

हमारे शेर हैं अब सिर्फ़ दिल-लगी के 'असद'

खुला कि फ़ाएदा अर्ज़-ए-हुनर में ख़ाक नहीं

मिर्ज़ा ग़ालिब

ये तिरे अशआर तेरी मानवी औलाद हैं

अपने बच्चे बेचना 'इक़बाल-साजिद' छोड़ दे

इक़बाल साजिद

राह-ए-मज़मून-ए-ताज़ा बंद नहीं

ता क़यामत खुला है बाब-ए-सुख़न

वली मोहम्मद वली

सादा समझो इन्हें रहने दो दीवाँ में 'अमीर'

यही अशआर ज़बानों पे हैं रहने वाले

अमीर मीनाई

औने-पौने ग़ज़लें बेचीं नज़्मों का व्यापार किया

देखो हम ने पेट की ख़ातिर क्या क्या कारोबार किया

महमूद शाम

उस का तो एक लफ़्ज़ भी हम को नहीं है याद

कल रात एक शेर कहा था जो ख़्वाब में

कमाल अहमद सिद्दीक़ी

हर्फ़ को बर्ग-ए-नवा देता हूँ

यूँ मिरे पास हुनर कुछ भी नहीं

खलील तनवीर

ख़ुश्क सेरों तन-ए-शाएर का लहू होता है

तब नज़र आती है इक मिस्रा-ए-तर की सूरत

अमीर मीनाई

हमारे शेर को सुन कर सुकूत ख़ूब नहीं

बयान कीजिए इस में जो कुछ तअम्मुल हो

जोशिश अज़ीमाबादी

इस को समझो ख़त्त-ए-नफ़्स 'हफ़ीज़'

और ही कुछ है शाएरी से ग़रज़

हफ़ीज़ जौनपुरी

शाइरी में अन्फ़ुस-ओ-आफ़ाक़ मुबहम हैं अभी

इस्तिआरा ही हक़ीक़त में ख़ुदा सा ख़्वाब है

काविश बद्री

'कैफ़' यूँ आग़ोश-ए-फ़न में ज़ेहन को नींद गई

जैसे माँ की गोद में बच्चा सिसक कर सो गया

कैफ़ अहमद सिद्दीकी