Prem Bhandari's Photo'

प्रेम भण्डारी

1949

ग़ज़ल 18

शेर 19

जाने क्यूँ लोग मिरा नाम पढ़ा करते हैं

मैं ने चेहरे पे तिरे यूँ तो लिखा कुछ भी नहीं

  • शेयर कीजिए

शाम हुई तो सूरज सोचे

सारा दिन बेकार जले थे

  • शेयर कीजिए

छुपी है अन-गिनत चिंगारियाँ लफ़्ज़ों के दामन में

ज़रा पढ़ना ग़ज़ल की ये किताब आहिस्ता आहिस्ता

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Khushbu Rang Sada Ke Sang

 

2003

 

चित्र शायरी 1

जिस पर तमाम उम्र बहुत नाज़ था मुझे मेरा वो इल्म मेरी सिफ़ारिश न बन सका