Kavish Badri's Photo'

काविश बद्री

1927

ग़ज़ल 18

शेर 11

एक बोसा होंट पर फैला तबस्सुम बन गया

जो हरारत थी मिरी उस के बदन में गई

अब वो अहबाब ज़िंदा हैं रस्म-उल-ख़त वहाँ

रूठ कर उर्दू तो देहली से दकन में गई

जवाब देने की मोहलत मिल सकी हम को

वो पल में लाख सवालात कर के जाता है

ई-पुस्तक 5

Kawisham

 

2014

Kunfayakun

 

2004

Masnavi-e-Qibla Numa

 

1965

Qadeem Tamil Nadu Mein Arabi Wa Farsi Adabiyat Ki Char Sau Sala Tareekh

Volume-001

2004

Sherdhanjali

 

1946