Kamal Ahmad Siddiqi's Photo'

कमाल अहमद सिद्दीक़ी

1926 - 2013 | दिल्ली, भारत

उरूज़ के विख्यात विशेषज्ञ और स्कॉलर।

उरूज़ के विख्यात विशेषज्ञ और स्कॉलर।

कमाल अहमद सिद्दीक़ी

ग़ज़ल 7

शेर 6

कुछ लोग जो ख़ामोश हैं ये सोच रहे हैं

सच बोलेंगे जब सच के ज़रा दाम बढ़ेंगे

  • शेयर कीजिए

उस का तो एक लफ़्ज़ भी हम को नहीं है याद

कल रात एक शेर कहा था जो ख़्वाब में

एक दिल है कि उजड़ जाए तो बस्ता ही नहीं

एक बुत-ख़ाना है उजड़े तो हरम होता है

पुर्सिश-ए-हाल भी इतनी कि मैं कुछ कह सकूँ

इस तकल्लुफ़ से करम हो तो सितम होता है

ज़िंदगी नाम इसी मौज-ए-मय-ए-नाब का है

मय-कदे से जो उठे दार-ओ-रसन तक पहुँचे

पुस्तकें 348

1949 Ka Behtareen Adab

 

1949

Aab-e-Gum

 

1990

Aable

 

1971

Aab-o-Hawa

 

1989

Aagahi

 

1996

Aaina Numa

 

2009

Aaina Numa

Shumara Number-003

2003

Aakhiri Raat

 

2011

Aanke Banke

 

1960

Abgina-e-Sahar

 

2001

संबंधित शायर

  • मोहम्मद सैफ़ बाबर मोहम्मद सैफ़ बाबर Nephew

"दिल्ली" के और शायर

  • शाह नसीर शाह नसीर
  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • अनीसुर्रहमान अनीसुर्रहमान
  • मोहम्मद रफ़ी सौदा मोहम्मद रफ़ी सौदा
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • मज़हर इमाम मज़हर इमाम