Farhat Abbas Shah's Photo'

फ़रहत अब्बास शाह

1964 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 17

शेर 4

उस के बारे में बहुत सोचता हूँ

मुझ से बिछड़ा तो किधर जाएगा

कभी सहर तो कभी शाम ले गया मुझ से

तुम्हारा दर्द कई काम ले गया मुझ से

उसे ज़ियादा ज़रूरत थी घर बसाने की

वो के मेरे दर-ओ-बाम ले गया मुझ से

मैं बे-ख़याल कभी धूप में निकल आऊँ

तो कुछ सहाब मिरे साथ साथ चलते हैं

पुस्तकें 1

आवारा मिज़ाज

 

 

 

संबंधित शायर

  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन

"लाहौर" के और शायर

  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी
  • वसी शाह वसी शाह
  • सूफ़ी तबस्सुम सूफ़ी तबस्सुम
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • सैफ़ुद्दीन सैफ़ सैफ़ुद्दीन सैफ़
  • साग़र सिद्दीक़ी साग़र सिद्दीक़ी