फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया

मिर्ज़ा ग़ालिब

फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BYमिर्ज़ा ग़ालिब

    INTERESTING FACT

    Film: Mirza Ghalib (1954)

    फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया

    दिल जिगर तिश्ना-ए-फ़रयाद आया

    I remember my moistened eyes again

    My heart's thirsty longing and my pain

    दम लिया था क़यामत ने हनूज़

    फिर तिरा वक़्त-ए-सफ़र याद आया

    Barely did doomsday cease to be

    The time of your parting came to me

    सादगी-हा-ए-तमन्ना या'नी

    फिर वो नैरंग-ए-नज़र याद आया

    The innocence of my wishes, surprise

    Again I think of fascinating eyes

    उज़्र-ए-वामांदगी हसरत-ए-दिल

    नाला करता था जिगर याद आया

    Heart's longing, weariness the reason, find

    I would have pled but patience came to mind

    ज़िंदगी यूँ भी गुज़र ही जाती

    क्यूँ तिरा राहगुज़र याद आया

    Life would in any case pass by and by

    Your street I now recall, tell me why

    क्या ही रिज़वाँ से लड़ाई होगी

    घर तिरा ख़ुल्द में गर याद आया

    Where is the courage now to plead at all

    Sick of the heart my patience I recall

    आह वो जुरअत-ए-फ़रियाद कहाँ

    दिल से तंग के जिगर याद आया

    My thought now goes back to your lane

    My missing heart I think of now again

    फिर तिरे कूचे को जाता है ख़याल

    दिल-ए-गुम-गश्ता मगर याद आया

    What kind of desolation there this be

    Home comes to mind the desert when I see

    कोई वीरानी सी वीरानी है

    दश्त को देख के घर याद आया

    What fight with heaven's doorman there will be

    Whoughts of your house, if there, trouble me

    मैं ने मजनूँ पे लड़कपन में 'असद'

    संग उठाया था कि सर याद आया

    When in youth, on majnuu.n's head, a stone

    I heft to cast, I then recalled my own

    वस्ल में हिज्र का डर याद आया

    ऐन जन्नत में सक़र याद आया

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    तलअत महमूद

    तलअत महमूद

    लता मंगेशकर

    लता मंगेशकर

    कुंदन लाल सहगल

    कुंदन लाल सहगल

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया नोमान शौक़

    स्रोत:

    • पुस्तक : Deewan-e-Ghalib Jadeed (Al-Maroof Ba Nuskha-e-Hameedia) (पृष्ठ 170)
    • पुस्तक : Ghair Mutdavil Kalam-e-Ghalib (पृष्ठ 25)
    • रचनाकार : Jamal Abdul Wahid
    • प्रकाशन : Ghalib Academy Basti Hazrat Nizamuddin,New Delhi-13 (2016)
    • संस्करण : 2016

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY