अख़्तर-उल-ईमान

  • 1915-1995

आधुनिक उर्दू नज़्म के संस्थापकों में शामिल। अग्रणी फ़िल्म-संवाद लेखक। फ़िल्म ' वक़्त ' और ' क़ानून ' के संवादों के लिए मशहूर। फ़िल्म 'वक़्त' में उनका संवाद ' जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते ' , आज भी ज़बानों पर

आधुनिक उर्दू नज़्म के संस्थापकों में शामिल। अग्रणी फ़िल्म-संवाद लेखक। फ़िल्म ' वक़्त ' और ' क़ानून ' के संवादों के लिए मशहूर। फ़िल्म 'वक़्त' में उनका संवाद ' जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते ' , आज भी ज़बानों पर

Editor Choiceचुनिंदा Popular Choiceलोकप्रिय
नज़्मश्रेणी
aagahi0
aakhiri mulaqat0
aamadgi0
ahd-e-wafa0
apahij gadi ka aadmi0
baz-amad --- ek muntaj0
be-chaargi0
be-talluqi0
bint-e-lamhat0
bulawa0
cleopatra0
dasna station ka musafir0
dur ki aawaz0
ek ehsas0
ek ladka0
etimad0
fasla0
gungi aurat0
ittifaq0
kal ki baat0
kale safed paron wala parinda aur meri ek sham0
kar-nama0
kawish0
khamir0
mahrumi0
masjid1
mata-e-raegan0
maut0
mera dost abul-haul0
mufahamat0
mukafat0
naya aahang0
pas-manzar0
rah-e-farar0
sabza-e-begana0
shisha ka aadmi0
silsile0
sukun0
tabdili0
tafaut0
tanhai mein0
targhib aur uske baad0
taskin0
umr-e-gurezan ke nam0
urus-ul-bilad0
yaaden0
zindagi ka waqfa1
seek-warrow-w
  • 1
arrow-eseek-e1 - 47 of 47 items