Bekhud Dehlvi's Photo'

Bekhud Dehlvi

1863 - 1955 | Delhi, India

Disciple of Dagh Dehlvi.

Disciple of Dagh Dehlvi.

Bekhud Dehlvi

Ghazal 58

Sher 75

adā.eñ dekhne baiThe ho kyā ā.īne meñ apnī

diyā hai jis ne tum jaise ko dil us jigar dekho

adaen dekhne baiThe ho kya aaine mein apni

diya hai jis ne tum jaise ko dil us ka jigar dekho

raah meñ baiThā huuñ maiñ tum sañg-e-rah samjho mujhe

aadmī ban jā.ūñgā kuchh Thokareñ khāne ke ba.ad

rah mein baiTha hun main tum sang-e-rah samjho mujhe

aadmi ban jaunga kuchh Thokaren khane ke baad

  • Share this

dil mohabbat se bhar gayā 'beḳhud'

ab kisī par fidā nahīñ hotā

dil mohabbat se bhar gaya 'beKHud'

ab kisi par fida nahin hota

  • Share this

baat vo kahiye ki jis baat ke sau pahlū hoñ

koī pahlū to rahe baat badalne ke liye

शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है उसी ने इसे दिलचस्प बनाया है। इसमें शब्द बात की यद्यपि तीन बार और पहलू की दो बार पुनरावृत्ति हुई है मगर शब्दों की तुकबंदी और अभिव्यक्ति के प्रवाह की विशेषता ने शे’र में आनंद पैदा किया है। पहलू के अनुरूप शब्द बदलने से शे’र की स्थिति का आभास होता है।

दरअसल शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है, हालांकि इसकी कोई विशेषता नहीं बल्कि सामान्य है मगर जिस अंदाज़ से शायर ने इस बिंदु को व्यक्त किया है वो सरल होने के बावजूद इस बिंदु को दुर्लभ बना देता है।

baat wo kahiye ki jis baat ke sau pahlu hon

koi pahlu to rahe baat badalne ke liye

शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है उसी ने इसे दिलचस्प बनाया है। इसमें शब्द बात की यद्यपि तीन बार और पहलू की दो बार पुनरावृत्ति हुई है मगर शब्दों की तुकबंदी और अभिव्यक्ति के प्रवाह की विशेषता ने शे’र में आनंद पैदा किया है। पहलू के अनुरूप शब्द बदलने से शे’र की स्थिति का आभास होता है।

दरअसल शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है, हालांकि इसकी कोई विशेषता नहीं बल्कि सामान्य है मगर जिस अंदाज़ से शायर ने इस बिंदु को व्यक्त किया है वो सरल होने के बावजूद इस बिंदु को दुर्लभ बना देता है।

sun ke saarī dāstān-e-rañj-o-ġham

kah diyā us ne ki phir ham kyā kareñ

sun ke sari dastan-e-ranj-o-gham

kah diya us ne ki phir hum kya karen

  • Share this

BOOKS 6

Asrar-e-Bekhud

Intekhab-e-kalam maa Hayaat o Khidmaat

1980

Dur-e-Shahwaar-e-Bekhud

 

1930

Guftar-e-Bekhud

 

1938

Miratul Ghalib

 

 

Nang-o-Namoos

 

1999

Naya Kalam

Deewan-e-Guftar-e-Bekhud

 

 

Image Shayari 3

jaaduu hai yaa tilism tumhaarii zabaan me.n tum jhuuT kah rahe the mujhe e'tibaar thaa

raah me.n baiThaa huu.n mai.n tum sa.ng-e-rah samjho mujhe aadmii ban jaa.uu.ngaa kuchh Thokare.n khaane ke ba.ad

dil to lete ho magar ye bhii rahe yaad tumhe.n jo hamaaraa na hu.aa kab vo tumhaaraa hogaa

 

Audios 17

aap hai.n be-gunaah kyaa kahnaa

aashiq hai.n magar ishq numaayaa.n nahii.n rakhte

aashiq samajh rahe hai.n mujhe dil lagii se aap

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

More Poets From "Delhi"

  • Mirza Ghalib Mirza Ghalib
  • Farhat Ehsas Farhat Ehsas
  • Shaikh Zahuruddin Hatim Shaikh Zahuruddin Hatim
  • Shah Naseer Shah Naseer
  • Rajinder Manchanda Bani Rajinder Manchanda Bani
  • Anisur Rahman Anisur Rahman
  • Abroo Shah Mubarak Abroo Shah Mubarak
  • Hasrat Mohani Hasrat Mohani
  • Momin Khan Momin Momin Khan Momin
  • Tilok Chand Mahroom Tilok Chand Mahroom