Suhail Azeemabadi's Photo'

सुहैल अज़ीमाबादी

1911 | पटना, भारत

प्रगतिशील कहानीकार, शायर और नाटककार।

प्रगतिशील कहानीकार, शायर और नाटककार।

शेर 19

पत्थर तो हज़ारों ने मारे थे मुझे लेकिन

जो दिल पे लगा कर इक दोस्त ने मारा है

  • शेयर कीजिए

तमन्नाओं की दुनिया दिल में हम आबाद करते हैं

ग़ज़ब है अपने हाथों ज़िंदगी बरबाद करते हैं

  • शेयर कीजिए

वो रातें कैफ़ में डूबी वो तेरी प्यार की बातें

निकल पड़ते हैं आँसू जब कभी हम याद करते हैं

  • शेयर कीजिए

कहानी 1

 

ई-पुस्तक 8

Alao

 

1942

Be Jad Ke Paude

 

1972

बेजड़ के पौधे

 

1984

Chaar Chehre

 

1977

Hindustani Adab Ke Memar: Suhail Azimabadi

 

1992

Suhail Azeemabadi Aur Unke Afsane

 

1982

अाज कल,नई दिल्ली

शुमारा नम्बर-004:सुहैल अज़ीमाबादी नम्बर: नवम्बर

1981

Zaban-o-Adab, Patna

Suhail Azimabadi Number: Shumara Number-001,002,003

1981

 

चित्र शायरी 1

पत्थर तो हज़ारों ने मारे थे मुझे लेकिन जो दिल पे लगा आ कर इक दोस्त ने मारा है

 

"पटना" के और शायर

  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • आर पी शोख़ आर पी शोख़
  • मीना नक़वी मीना नक़वी
  • ज्योती आज़ाद खतरी ज्योती आज़ाद खतरी
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • माहिर अब्दुल हई माहिर अब्दुल हई
  • सौरभ शेखर सौरभ शेखर
  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • रख़शां हाशमी रख़शां हाशमी