गरम कोट

MORE BYराजिंदर सिंह बेदी

    स्टोरीलाइन

    यह ऐसे शख़्स की कहानी है जिसे एक गर्म कोट की शदीद ज़रूरत है। पुराने कोट पर पेवंद लगाते हुए वो और उसकी बीवी दोनों थक गए हैं। बीवी-बच्चों की ज़रूरतों के आगे वह हमेशा अपनी इस ज़रूरत को टालता रहता है। एक रोज़ घर की ज़रुरियात लिस्ट बनाकर वह बाज़ार जाता है तो पता चलता है कि जेब में रखा दस का नोट कहीं गुम हो गया है, मगर बाद में पता चलता है कि वह नोट कोट की फटी जेब में से खिसक कर दूसरी तरफ़ चला गया था। अगली बार वह अपनी बीवी को बाज़ार भेजता है। बीवी अपनी और बच्चों की ज़रूरत का सामान लाने की बजाये शौहर के लिए गर्म कोट का कपड़ा ले आती है।

    मैंने देखा है, मेराज उद्दीन टेलर मास्टर की दुकान पर बहुत से उम्दा-उम्दा सूट आवेज़ाँ होते हैं। उन्हें देखकर अक्सर मेरे दिल में ख़्याल पैदा होता है कि मेरा अपना गर्म कोट बिल्कुल फट गया है और इस साल हाथ तंग होने के बावजूद मुझे एक नया गर्म कोट ज़रूर सिलवा लेना चाहिए। टेलर मास्टर की दुकान के सामने से गुज़रने या अपने महकमे की तफ़रीह क्लब में जाने से गुरेज़ करूँ तो मुम्किन है, मुझे गर्म कोट का ख़्याल भी आये, क्योंकि क्लब में जब सन्ता सिंह और यज़्दानी के कोटों के नफ़ीस वर्स्टेड (Worsted) मेरे समंद-ए-तख़य्युल पे ताज़ियाना लगाते हैं तो मैं अपने कोट की बोसीदगी को शदीद तौर पर महसूस करने लगता हूँ। या’नी वो पहले से कहीं ज़्यादा फट गया है।

    बीवी बच्चों को पेट भर रोटी खिलाने के लिए मुझसे मा’मूली क्लर्क को अपनी बहुत सी ज़रूरियात तर्क करना पड़ती हैं और उन्हें जिगर तक पहुँचती हुई सर्दी से बचाने के लिए ख़ुद मोटा झोटा पहनना पड़ता है... ये गर्म कोट मैंने पार साल दिल्ली दरवाज़े से बाहर पुराने कोटों की एक दुकान से मोल लिया था। कोटों के सौदागर ने पुराने कोटों की सैंकड़ों गाँठें किसी मरांजा, मरांजा एंड कंपनी कराची से मँगवाई थीं। मेरे कोट में नक़ली सिल्क के अस्तर से बनी हुई अंदरूनी जेब के नीचे मरांजा, मरांजा एंड को का लेबल लगा हुआ था। मगर कोट मुझे मिला बहुत सस्ता। महंगा रोये एक-बार सस्ता रोये बार-बार... और मेरा कोट हमेशा ही फटा रहता था।

    इसी दिसंबर की एक शाम को तफ़रीह क्लब से वापस आते हुए मैं इरादतन अनारकली में से गुज़रा। उस वक़्त मेरी जेब में दस रुपये का नोट था। आटा-दाल, ईंधन, बिजली, बीमा कंपनी के बिल चुका देने पर मेरे पास वही दस का नोट बच रहा था... जेब में दाम हों तो अनारकली में से गुज़रना मा’यूब नहीं। उस वक़्त अपने आप पर गु़स्सा भी नहीं आता बल्कि अपनी ज़ात कुछ भली मालूम होती है। उस वक़्त अनारकली में चारों तरफ़ सूट ही सूट नज़र रहे थे और साड़ियाँ। चंद साल से हर नत्थू खैरा सूट पहनने लगा है... मैंने सुना है गुज़िश्ता चंद साल में कई टन सोना हमारे मुल्क से बाहर चला गया है। शायद इसी लिए लोग जिस्मानी ज़ेबाइश का ख़्याल भी बहुत ज़्यादा रखते हैं। नये-नये सूट पहनना और ख़ूब शान से रहना हमारे अफ़्लास का बदीही सबूत है। वर्ना जो लोग सच-मुच अमीर हैं, ऐसी शान-शौकत और ज़ाहिरी तकल्लुफ़ात की चंदाँ पर्वा नहीं करते।

    कपड़े की दुकान में वर्स्टेड के थानों के थान खुले पड़े थे। उन्हें देखते हुए मैंने कहा, क्या मैं इस महीने के बचे हुए दस रूपों में से कोट का कपड़ा ख़रीद कर बीवी बच्चों को भूका मारूँ? लेकिन कुछ अर्सा के बाद मेरे दिल में नये कोट के नापाक ख़्याल का रद्द-ए-अमल शुरुअ हुआ। मैं अपने पुराने गर्म कोट का बटन पकड़ कर उसे बल देने लगा। चूँकि तेज़-तेज़ चलने से मेरे जिस्म में हरारत गयी थी, इसलिए मौसम की सर्दी और इस क़िस्म के ख़ारिजी असरात मेरे कोट ख़रीदने के इरादे को पाय-ए-तकमील तक पहुँचाने से क़ासिर रहे। मुझे तो उस वक़्त अपना वो कोट भी सरासर मुकल्लिफ़ नज़र आने लगा।

    ऐसा क्यों हुआ? मैंने कहा है जो शख़्स हक़ीक़तन अमीर हों वो ज़ाहिरी शान की चंदाँ फ़िक्र नहीं करते,जो लोग सच-मुच अमीर हों उन्हें तो फटा हुआ कोट बल्कि क़मीस भी तकल्लुफ़ में दाख़िल समझनी चाहिए, तो क्या मैं सच-मुच अमीर था कि...?

    मैंने घबरा कर ज़ाती तजज़िया छोड़ दिया और बमुश्किल दस का नोट सही सलामत लिये घर पहुँचा। शम्मी, मेरी बीवी, मेरी मुंतज़िर थी।

    आटा गूँधते हुए उसने आग फूंकनी शुरुअ कर दी... कमबख़्त मंगल सिंह ने इस दफ़ा लकड़ियाँ गीली भेजी थीं। आग जलने का नाम ही नहीं लेती थी। ज़्यादा फूँकें मारने से गीली लकड़ियों में से और भी ज़्यादा धुआँ उठा। शम्मी की आँखें लाल अंगारा हो गयीं। उनसे पानी बहने लगा।

    “कमबख़्त कहीं का... मंगल सिंह।” मैंने कहा, “इन पुरनम आँखों के लिए मंगल सिंह तो क्या मैं तमाम दुनिया से जंग करने पर आमादा हो जाऊँ।”

    बहुत तग-ओ-दो के बाद लकड़ियाँ आहिस्ता-आहिस्ता चटख़्ने लगीं। आख़िर उन पुरनम आँखों के पानी ने मेरे गुस्से की आग बुझा दी... शम्मी ने मेरे शाने पर सर रखा और मेरे फटे हुए गर्म कोट में पतली-पतली उंगलियाँ दाख़िल करती हुई बोली,

    “अब तो ये बिल्कुल काम का नहीं रहा।”

    मैंने धीमी सी आवाज़ से कहा, “हाँ।”

    “सी दूँ...? यहाँ से...”

    “सी दो। अगर कोई एक-आध तार निकाल कर रफ़ू कर दो तो क्या कहने हैं।”

    कोट को उल्टाते हुए शम्मी बोली, “अस्तर को तो मुई टिड्डियां चाट रही हैं... नक़ली रेशम का है ना... ये देखिये।”

    मैंने शम्मी से अपना कोट छीन लिया और कहा, “मशीन के पास बैठने की बजाय तुम मेरे पास बैठो। शम्मी... देखती नहीं हो, दफ़्तर से रहा हूँ... ये काम तुम उस वक़्त कर लेना जब मैं सो जाऊँ।”

    शम्मी मुस्कुराने लगी।

    वो शम्मी की मुस्कुराहट और मेरा फटा हुआ कोट!

    शम्मी ने कोट को ख़ुद ही एक तरफ़ रख दिया। बोली, “मैं ख़ुद भी इस कोट की मरम्मत करते-करते थक गयी हूँ... इसे मरम्मत करने में इस गीले ईंधन को जलाने की तरह जान मारनी पड़ती है... आँखें दुखने लगती हैं... आख़िर आप अपने कोट के लिए कपड़ा क्यों नहीं ख़रीदते?”

    मैं कुछ देर सोचता रहा।

    यूँ तो मैं अपने कोट के लिए कपड़ा ख़रीदना गुनाह ख़्याल करता था, मगर शम्मी की आँखें! इन आँखों को तकलीफ़ से बचाने के लिए मैं मंगल सिंह तो क्या, तमाम दुनिया से जंग करने पर आमादा हो जाऊँ। वर्स्टेड के थानों के थान ख़रीद लूँ। नये गर्म कोट के लिए कपड़ा ख़रीदने का ख़याल दिल में पैदा हुआ ही था कि पुष्पा मुनि भागती हुई कहीं से गयी। आते ही बरामदे में नाचने और गाने लगी। उसकी हरकात कत्था कली मुद्रा से ज़्यादा कैफ़ अंगेज़ थीं।

    मुझे देखते हुई पुष्पा मुनि ने अपना नाच और गाना ख़त्म कर दिया। बोली, “बाबूजी... आप गए? आज बड़ी बहन जी (उस्तानी) ने कहा था। मेज़-पोश के लिए दो सुती लाना और गर्म कपड़े पर काट सिखाई जाएगी। गुनिया माप के लिए और गर्म कपड़ा...”

    चूँकि उस वक़्त मेरे गर्म कोट ख़रीदने की बात हो रही थी, शम्मी ने ज़ोर से एक चपत उसके मुँह पर लगाई और बोली,

    “इस जनमजली को हर वक़्त... हर वक़्त कुछ कुछ ख़रीदना ही होता है... मुश्किल से इन्हें कोट सिलवाने पर राज़ी कर रही हूँ...”

    वो पुष्पा मुनी का रोना और मेरा नया कोट!

    मैंने खिलाफ़-ए-आ’दत ऊँची आवाज़ से कहा, “शम्मी।”

    शम्मी काँप गयी। मैंने गुस्से से आँखें लाल करते हुए कहा, “मेरे इस कोट की मरम्मत कर दो... अभी किसी तरह करो... ऐसे जैसे रो पीट कर मंगल सिंह की गीली लकड़ियाँ जला लेती हो... तुम्हारी आँखें! हाँ! याद आया... देखो तो पुष्पा मुनी कैसे रो रही है। पोपी बेटा! इधर आओ ना... इधर आओ मेरी बच्ची। क्या कहा था तुमने? बोलो तो... दो सुती? गुनिया माप के लिए और काट सीखने को गर्म कपड़ा...? बच्चू नन्हा भी तो ट्राइसिकल का राग अलापता और गुब्बारे के लिए मचलता सो गया होगा। उसे ग़ुबारा ले दोगी तो मेरा कोट सिल जाएगा। है न...? कितना रोया होगा बेचारा... शम्मी! कहाँ है बच्चू?”

    “जी सो रहा है...” शम्मी ने सहमे हुए जवाब दिया।

    “अगर मेरे गर्म कोट के लिए तुम इन मासूमों से ऐसा सुलूक करोगी, तो मुझे तुम्हारी आँखों की पर्वा ही क्या है?” फिर मैंने दिल में कहा, क्या ये सब कुछ मेरे गर्म कोट के लिए हो रहा है। शम्मी सच्ची है या मैं सच्चा हूँ। पहले मैंने कहा... दोनों... मगर जो सच्चा होता है, उसका हाथ हमेशा ऊपर रहता है। मैंने ख़ुद ही दबते हुए कहा,

    “तुम ख़ुद भी तो उस दिन काफ़ूरी रंग के मीनाकार कांटों के लिए कह रही थीं...”

    “हाँ... जी... कह तो रही थी मगर...”

    मगर... मगर उस वक़्त तो मुझे अपने गर्म कोट की जेब में दस रुपये का नोट एक बड़ा ख़ज़ाना मालूम हो रहा था!

    दूसरे दिन शम्मी ने मेरा कोट कोहनियों पर से रफ़ू कर दिया। एक जगह जहाँ पर से कपड़ा बिल्कुल उड़ गया था, सफ़ाई और एहतियात से काम लेने के बावजूद सिलाई पर बदनुमा सिलवटें पड़ने लगीं। उस वक़्त मेराज उद्दीन टेलर मास्टर की दुकान मेरे ज़ह्न में घूमने लगी और ये मेरे तख़य्युल की पुख़्ता-कारी थी। मेरे तख़य्युल की पुख़्ता-कारी अक्सर मुझे मुसीबत में डाले रखती है। मैंने दिल में कह, “मेराज उद्दीन की दुकान पर ऐसे सूट भी तो होते हैं जिन पर सिलाई समेत सौ रुपये से भी ज़्यादा लागत आती है... मैं एक मा’मूली क्लर्क हूँ... उसकी दुकान में लटके हुए सूटों का तसव्वुर करना अ’बस है... अ’बस।’’

    मुझे फ़ारिग़ पाकर शम्मी मेरे पास बैठी और हम दोनों ख़रीदी जाने वाली चीज़ों की फ़ेहरिस्त बनाने लगे... जब माँ-बाप इकट्ठे होते हैं तो बच्चे भी जाते हैं... पुष्पा मुनी और बच्चू गए। आँधी और बारिश की तरह शोर मचाते हुए।

    मैंने शम्मी को ख़ुश करने के लिए नहीं, बल्कि यूँ ही काफ़ूरी रंग के मीनाकार काँटे सबसे पहले लिखे। अचानक रसोई की तरफ़ मेरी नज़र उठी। चूल्हे में लकड़ियाँ धड़-धड़ जल रही थीं... और उधर शम्मी की आँखें भी दो चमकते हुए सितारों की तरह रौशन थीं। मालूम हुआ कि मंगल सिंह गीली लकड़ियाँ वापस ले गया है।

    “वो शहतूत के डंडे जल रहे हैं और खोखा...” शम्मी ने कहा।

    “और उपले?”

    “जी हाँ, उपले भी।”

    “मंगल सिंह देवता है... शायद मैं भी अन-क़रीब गर्म कोट के लिए अच्छा सा वर्स्टेड ख़रीद लूँ। ताकि तुम्हारी आँखें यूँ ही चमकती रहें, उन्हें तकलीफ़ हो... इस माह की तनख़्वाह में तो गुंजाइश नहीं... अगले माह ज़रूर... ज़रूर।”

    “जी हाँ, जब सर्दी गुज़र जाएगी।”

    पुष्पा मुनि ने कई चीज़ें लिखाईं। दो सुती, गुनिया माप के लिए गर्म ब्लेज़र सब्ज़-रंग का, एक गज़ मुरब्बा, डी एमसी के गोले, गोटे की मग़ज़ी... और इमर्तियाँ और बहुत से गुलाब जामुन... मुई ने सब कुछ ही तो लिखवा दिया। मुझे दाइमी क़ब्ज़ थी। मैं चाहता था कि यूनानी दवाख़ाना से इतरीफ़ल ज़मानी का एक डिब्बा भी ला रखूँ। दूध के साथ थोड़ा सा पी कर सो जाया करूँगा। मगर मुई पुष्पा ने इसके लिए गुंजाइश ही कहाँ रखी थी और जब पुष्पा मुनि ने कहा गुलाब जामुन तो उसके मुँह में पानी भर आया। मैंने कहा सबसे ज़रूरी चीज़ तो यही है... शहर से वापस आने पर मैं गुलाब जामुन वहाँ छुपा दूँगा, जहाँ सीढ़ियों में बाहर जमादार अपना दूध का कलसा रख दिया करता है और पुष्पा मुनी से कहूँगा कि मैं तो लाना ही भूल गया... तुम्हारे लिए गुलाब जामुन... हो! उस वक़्त उसके मुँह में पानी भर आएगा और गुलाब जामुन पाकर उसकी अजीब कैफ़ियत होगी।

    फिर मैंने सोचा, बच्चू भी तो सुबह से गुब्बारे और ट्राइसिकल के लिए ज़िद कर रहा था। मैंने एक मर्तबा अपने आपसे सवाल किया इतरीफ़ल ज़मानी? शम्मी बच्चू को पुचकारते हुए कह रही थी, “बच्चू बेटी को ट्राइसिकल ले दूँगी। अगले महीने... बच्चू बेटी सारा दिन चलाया करेगी ट्राइसिकल... और पोपी मुन्ना नहीं लेगा...

    और मैंने शम्मी की आँखों की क़सम खाई कि जब तक ट्राइसिकल के लिए छः सात रुपये जेब में हों, मैं नीले-गुम्बद के बाज़ार से नहीं गुज़रूँगा, इसलिए कि दाम होने की सूरत में नीले-गुम्बद के बाज़ार से गुज़रना बहुत मा’यूब है। ख़्वाह-म-ख़्वाह अपने आप पर गु़स्सा आएगा। अपनी ज़ात से नफ़रत पैदा होगी।

    उस वक़्त शम्मी बेलजीमी आईने की बैज़वी टुकड़ी के सामने अपने काफ़ूरी सपेद सूट में खड़ी थी। मैं चुपके से उसके पीछे जा खड़ा हुआ और कहने लगा, “मैं बताऊँ तुम इस वक़्त क्या सोच रही हो?”

    “बताओ तो जानूँ...”

    “तुम कह रही हो... काफ़ूरी सपेद सूट के साथ वो काफ़ूरी रंग के मीनाकार काँटे पहन कर ज़िलादार की बीवी के हाँ जाऊँ तो दंग रह जाये...”

    “नहीं तो...” शम्मी ने हंसते हुए कहा। “आप मेरी आँखों के मद्दाह होते तो कभी का गर्म...”

    मैंने शम्मी के मुँह पर हाथ रख दिया। मेरी तमाम ख़ुशी बेबसी में बदल गयी। मैंने आहिस्ता से कहा, “बस... इधर देखो... अगले महीने... ज़रूर ख़रीद लूँगा...”

    “जी हाँ, जब सर्दी...”

    फिर में अपनी उस हसीन दुनिया को जिसकी तख़लीक़ पर महज़ दस रुपये सर्फ़ हुए थे, तसव्वुर में बसाए बाज़ार चला गया।

    मेरे सिवा अनारकली से गुज़रने वाले हर ज़ी-इज़्ज़त आदमी ने गर्म सूट पहन रखा था। लाहौर के एक लहीम-ओ-शहीम जैंटलमैन की गर्दन नेकटाई और मुकल्लिफ़ कालर के सबब मेरे छोटे भाई के पालतू बिल्ली कुत्ते, टाइगर की गर्दन की तरह अकड़ी हुई थी। मैंने उन सूटों की तरफ़ देखते हुए कहा,

    “लोग सच-मुच बहुत मुफ़लिस हो गए हैं... इस महीने मालूम कितना सोना-चांदी हमारे मुल्क से बाहर चला गया है। काँटों की दुकान पर मैंने कई जोड़ियां काँटे देखे। अपनी तख़य्युल की पुख़्ता-कारी से मैं शम्मी की काफ़ूरी सपेद सूट में मलबूस ज़ेह्नी तस्वीर को काँटे पहना कर पसंद या नापसंद कर लेता... काफ़ूरी सपेद सूट... काफ़ूरी मीनाकार काँटे... कसरत-ए-इक़साम के बाइ’स मैं एक भी मुंतख़ब कर सका।’’

    उस वक़्त बाज़ार में मुझे यज़्दानी मिल गया। वो तफ़रीह क्लब से, जो दरअस्ल परेल क्लब थी, पंद्रह रुपये जीत कर आया था। आज उसके चेहरे पर अगर सुर्ख़ी और बशाशत की लहरें दिखाई देती थीं तो कुछ ता’ज्जुब की बात थी। मैं एक हाथ से अपनी जेब की सिलवटों को छुपाने लगा। निचली बाएं जेब पर एक रुपये के बराबर कोट से मिलते हुए रंग का पैवंद बहुत ही नामौज़ूँ दिखाई दे रहा था... मैं उसे भी एक हाथ से छुपाता रहा। फिर मैंने दिल में कहा। क्या अजब यज़्दानी ने मेरे शाने पर हाथ रखने से पहले मेरी जेब की सिलवटें और वो रुपये के बराबर कोट के रंग का पैवंद देख लिया हो... उसका भी रद्देअ’मल शुरुअ हुआ और मैंने दिलेरी से कहा,

    “मुझे क्या पर्वा है... यज़्दानी मुझे कौन सी थैली बख़्श देगा... और इसमें बात ही क्या है। यज़्दानी और सन्ता सिंह ने बारहा मुझसे कहा है कि वो रिफ़अत-ए-ज़ह्नी की ज़्यादा पर्वा करते हैं और वर्स्टेड की कम।”

    मुझसे कोई पूछे, मैं वर्स्टेड की ज़्यादा पर्वा करता हूँ और रिफ़अत-ए-ज़ेह्नी की कम।

    यज़्दानी रुख़स्त हुआ और जब तक वो नज़र से ओझल हो गया,मैं ग़ौर से उसके कोट के नफ़ीस वर्स्टेड को पुश्त की जानिब से देखता रहा।

    फिर मैंने सोचा कि सबसे पहले मुझे पुष्पा मुनी के गुलाब जामुन और इमर्तियाँ ख़रीदनी चाहिऐं। कहीं वापसी पर सच-मुच भूल ही जाऊँ। घर पहुँच कर उन्हें छुपाने से ख़ूब तमाशा रहेगा। मिठाई की दुकान पर खौलते हुए रोग़न में कचौरियाँ ख़ूब फूल रही थीं। मेरे मुँह में पानी भर आया। इस तरह जैसे गुलाब जामुन के तख़य्युल से पुष्पा मुनी के मुँह में पानी भर आया था। क़ब्ज़ और इतरीफ़ल ज़मानी के ख़्याल के बावजूद में सफ़ेद पत्थर की मेज़ पर कुहनियाँ टिका कर बहुत रग़बत से कचौरियाँ खाने लगा।

    हाथ धोने के बाद जब पैसों के लिए जेब टटोली, तो उसमें कुछ भी था। दस का नोट कहीं गिर गया था।

    कोट की अंदरूनी जेब में एक बड़ा सुराख़ हो रहा था। नक़ली रेशम को टिड्डियाँ चाट गई थीं। जेब में हाथ डालने पर उस जगह जहाँ मरांजा, मरांजा एंड कंपनी का लेबल लगा हुआ था, मेरा हाथ बाहर निकल आया। नोट वहीं से बाहर गिर गया होगा।

    एक लम्हा में मैं यूँ दिखाई देने लगा, जैसे कोई भोली सी भेड़ अपनी ख़ूबसूरत पश्म उतर जाने पर दिखाई देने लगती है।

    हलवाई भाँप गया। ख़ुद ही बोला, “कोई बात नहीं बाबू जी... पैसे कल जाऐंगे।”

    मैं कुछ बोला... कुछ बोल ही सका।

    सिर्फ़ इज़हार-ए-तशक्कुर के लिए मैंने हलवाई की तरफ़ देखा। हलवाई के पास ही गुलाब जामुन चाशनी में डूबे पड़े थे। रोग़न में फूलती हुई कचौरियों के धुएं में से आतिशीं सुर्ख़ इमर्तियाँ जिगर पर-दाग़ लगा रही थीं... और ज़ह्न में पुष्पा मुनी की धुँदली सी तस्वीर फिर गयी।

    मैं वहाँ से बादामी बाग़ की तरफ़ चल दिया और आध पौन घंटे के क़रीब बादामी बाग़ की रेलवे लाईन के साथ-साथ चलता रहा। इस अर्से में जंक्शन की तरफ़ से एक मालगाड़ी आयी। उसके पाँच मिनट बाद एक शंट करता हुआ इंजन जिसमें से दहकते हुए सुर्ख़ कोयले लाईन पर गिर रहे थे... मगर उस वक़्त क़रीब ही की साल्ट रीफ़ाइनरी में से बहुत से मज़दूर ओवर टाइम लगा कर वापस लौट रहे थे... मैं लाईन के साथ-साथ दरिया के पुल की तरफ़ चल दिया। चाँदनी-रात में सर्दी के बावजूद कॉलेज के चंद मनचले नौजवान कश्ती चला रहे थे।

    “क़ुदरत ने अजीब सज़ा दी है मुझे”, मैंने कहा। पुष्पा मुनी के लिए गोटे की मग़ज़ी, दो सुती, गुलाब जामुन और शम्मी के लिए काफ़ूरी मीनाकार काँटे ख़रीदने से बढ़कर कोई गुनाह सरज़द हो सकता है। किस बेरहमी और बेदर्दी से मेरी एक हसीन मगर बहुत सस्ती दुनिया बर्बाद कर दी गई है... जी तो चाहता है कि मैं भी क़ुदरत का एक शाहकार तोड़-फोड़ के रख दूँ।

    मगर पानी में कश्ती-राँ लड़का कह रहा था, “इस मौसम में तो रावी का पानी घुटने-घुटने से ज़्यादा कहीं नहीं होता।”

    “सारा पानी तो ऊपर से अपरबारी दो आब ले लेती है... और यूँ भी आजकल पहाड़ों पर बर्फ़ नहीं पिघलती।” दूसरे ने कहा।

    मैं नाचार घर की तरफ़ लौटा और निहायत बेदिली से ज़ंजीर हिलाई।

    मेरी ख़्वाहिश और अंदाज़े के मुताबिक़ पुष्पा मुनी और बच्चू नन्हा बहुत देर हुई दहलीज़ से उठ कर बिस्तरों में जा सोए थे। शम्मी चूल्हे के पास शहतूत के नीम जान कोयलों को ताप्ती हुई कई मर्तबा ऊँघी और कई मर्तबा चौंकी थी। वो मुझे ख़ाली हाथ देखकर ठिटक गयी। उसके सामने मैंने चोर जेब के अंदर हाथ डाला और लेबल के नीचे से निकाल लिया। शम्मी सब कुछ समझ गयी। वो कुछ बोली... कुछ बोल ही सकी।

    मैंने कोट खूँटी पर लटका दिया। मेरे पास ही दीवार का सहारा लेकर शम्मी बैठ गयी और हम दोनों सोते हुए बच्चों और खूँटी पर लटकते हुए गर्म कोट को देखने लगे।

    अगर शम्मी ने मेरा इंतेज़ार किए बग़ैर वो काफ़ूरी सूट बदल दिया होता, तो शायद मेरी हालत इतनी मुतग़य्यर होती!

    यज़्दानी और सन्ता सिंह तफ़रीह क्लब में परेल खेल रहे थे। उन्होंने दो-दो घूँट पी भी रखी थी। मुझसे भी पीने के लिए इसरार करने लगे, मगर मैंने इनकार कर दिया। इसलिए कि मेरी जेब में दाम थे। सन्ता सिंह ने अपनी तरफ़ से एक-आध घूँट ज़बरदस्ती मुझे भी पिला दिया। शायद इसलिए कि वो जान गए थे कि उसके पास पैसे नहीं हैं। या शायद इसलिए कि वो रिफ़अत-ए-ज़ह्नी की वर्स्टेड से ज़्यादा पर्वा करते थे।

    अगर मैं घर में उस दिन शम्मी को वही काफ़ूरी सपेद सूट पहने हुए देखकर आता तो शायद परेल में क़िस्मत आज़माई करने को मेरा जी भी चाहता। मैंने कहा, काश! मेरी भी जेब में एक दो रुपये होते। क्या अ’जब था कि मैं बहुत से रुपये बना लेता मगर मेरी जेब में तो कुल पौने चार आने थे।

    यज़्दानी और सन्ता सिंह निहायत उम्दा वर्स्टेड के सूट पहने नेक आलम, क्लब के सेक्रेटरी से झगड़ रहे थे। नेक आलम कह रहा था कि वो तफ़रीह क्लब को परेल क्लब और ‘बार’ बनते हुए कभी नहीं देख सकता। उस वक़्त मैंने एक मायूस आदमी के मख़सूस अंदाज़ में जेब में हाथ डाला और कहा, “बीवी बच्चों के लिए कुछ ख़रीदना क़ुदरत के नज़दीक गुनाह है। इस हिसाब से परेल खेलने के लिए तो उसे अपनी गिरह से दाम दे देने चाहिऐं। ही ही... ग़ी ग़ी...”

    अंदरूनी केसा... बाईं निचली जेब... कोट में पुश्त की तरफ़ मुझे कोई काग़ज़ सरकता हुआ मालूम हुआ। उसे सरकाते हुए... मैंने दाईं जेब के सुराख़ के नज़दीक जा निकाला।

    वो दस रुपये का नोट था, जो उस दिन अंदरूनी जेब की तह के सुराख़ में से गुज़र कर कोट के अंदर ही अंदर गुम हो गया था!

    उस दिन मैंने क़ुदरत से इंतिक़ाम लिया। मैं उसकी ख़्वाहिश के मुताबिक़ परेल वरेल खेला। नोट को मुट्ठी में दबाए घर की तरफ़ भागा। अगर उस दिन मेरा इंतेज़ार किए बग़ैर शम्मी ने वो काफ़ूरी सूट बदल दिया होता, तो मैं ख़ुशी से यूँ दीवाना कभी होता।

    हाँ, फिर चलने लगा वही तख़य्युल का दौर। गोया एक हसीन से हसीन दुनिया की तख़लीक़ में दस रुपये से ऊपर एक दमड़ी भी ख़र्च नहीं आती। जब मैं बहुत सी चीज़ों की फ़ेहरिस्त बना रहा था, शम्मी ने मेरे हाथ से काग़ज़ छीन कर पुरज़े-पुरज़े कर दिया और बोली,

    “इतने क़िले मत बनाइऐ... फिर नोट को नज़र लग जाएगी।”

    शम्मी ठीक कहती है। मैंने सोचते हुए कहा, “न तख़य्युल इतना रंगीन हो, और महरूमी से इतना दुख पहुँचे।”

    फिर मैंने कहा, “एक बात है शम्मी! मुझे डर है कि नोट फिर कहीं मुझसे गुम हो जाये... तुम्हारी खेमू पड़ोसन बाज़ार जा रही है। उसके साथ जा कर तुम ये सब चीज़ें ख़ुद ही ख़रीद लाओ... काफ़ूरी मीना-कार काँटे... डी.एम.सी. के गोले, मग़ज़ी... और देखो पोपी मुँह के लिए गुलाब जामुन ज़रूर लाना... ज़रूर...”

    शम्मी ने खेमू के साथ जाना मंज़ूर कर लिया और उस शाम शम्मी ने कशमीरे का एक निहायत उम्दा सूट पहना।

    बच्चों के शोर-ओ-ग़ौग़ा से मेरी तबीयत बहुत घबराती है। मगर उस दिन मैं अर्से तक बच्चू नन्हे को उसकी माँ की गैर हाज़िरी में बहलाता रहा। वो रसोई से ईंधन की कोलकी, ग़ुस्ल-ख़ाने की नीम छत पर... सब जगह उसे ढूँढता फिरा ।मैंने उसे पुचकारते हुए कहा,

    “वो ट्राइसिकल लेने गई है... नहीं जाने दो ट्राइसिकल गंदी चीज़ होती है। आख़ थू... ग़ुब्बारा लाएगी, बी-बी, तुम्हारे लिए, बहुत ख़ूबसूरत ग़ुब्बारा...”

    बच्चू बेटी ने मेरे सामने थूक दिया। बोली, “ए... ई... गंदडी।”

    मैंने कहा, “कोई देखे तो... कैसा बेटियों जैसा बेटा है।”

    पुष्पा मुनि को भी मैंने गोद में ले लिया और कहा,पोपी मुन्ना... आज गुलाब जामुन जी भर कर खाएगा ना...”

    उसके मुँह में पानी भर आया। वो गोदी से उतर पड़ी। बोली, “ऐसा मालूम होता है... जैसे एक बड़ा सा गुलाब जामुन खा रही हूँ।”

    बच्चू रोता रहा। पुष्पा मुनी कत्था कली मुद्रा से ज़्यादा हसीन नाच बरामदे में नाचती रही।

    मुझे मेरे तख़य्युल की परवाज़ से कौन रोक सकता था। कहीं मेरे तख़य्युल के क़िले ज़मीन पर रहें। इसी डर से तो मैंने शम्मी को बाज़ार भेजा था। मैं सोच रहा था। शम्मी अब घोड़े हस्पताल के क़रीब पहुँच चुकी होगी... अब कॉलेज रोड की नुक्कड़ पर होगी... अब गंदे इंजन के पास...

    और एक निहायत धीमे अंदाज़ से ज़ंजीर हिली।

    शम्मी सच-मुच गयी थी। दरवाज़े पर।

    शम्मी अंदर आते हुए बोली, “मैंने दो रुपये खेमू से उधार लेकर भी ख़र्च कर डाले हैं।”

    “कोई बात नहीं”, मैंने कहा।

    फिर बच्चू, पोपी, मुन्ना और मैं तीनों शम्मी के आगे पीछे घूमने लगे।

    मगर शम्मी के हाथ में एक बंडल के सिवा कुछ था। उसने मेज़ पर बंडल खोला...

    वो मेरे कोट के लिए बहुत नफ़ीस वर्स्टेड था।

    पुष्पा मुनी ने कहा, “बी-बी मेरे गुलाब जामुन...”

    शम्मी ने ज़ोर से एक चपत उसके मुँह पर लगा दी।

    स्रोत :

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY