Azm Bahzad's Photo'

अज़्म बहज़ाद

1958 - 2011 | कराची, पाकिस्तान

महत्वपूर्ण और लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर/उस्ताद शायर बहज़ाद लखनवी के पोते

महत्वपूर्ण और लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर/उस्ताद शायर बहज़ाद लखनवी के पोते

ग़ज़ल 16

नज़्म 1

 

शेर 11

कल सामने मंज़िल थी पीछे मिरी आवाज़ें

चलता तो बिछड़ जाता रुकता तो सफ़र जाता

रौशनी ढूँड के लाना कोई मुश्किल तो था

लेकिन इस दौड़ में हर शख़्स को जलते देखा

कितने मौसम सरगर्दां थे मुझ से हाथ मिलाने में

मैं ने शायद देर लगा दी ख़ुद से बाहर आने में

चित्र शायरी 1

मैं उम्र के रस्ते में चुप-चाप बिखर जाता इक दिन भी अगर अपनी तन्हाई से डर जाता मैं तर्क-ए-तअल्लुक़ पर ज़िंदा हूँ सो मुजरिम हूँ काश उस के लिए जीता अपने लिए मर जाता उस रात कोई ख़ुश्बू क़ुर्बत में नहीं जागी मैं वर्ना सँवर जाता और वो भी निखर जाता उस जान-ए-तकल्लुम को तुम मुझ से तो मिलवाते तस्ख़ीर न कर पाता हैरान तो कर जाता कल सामने मंज़िल थी पीछे मिरी आवाज़ें चलता तो बिछड़ जाता रुकता तो सफ़र जाता मैं शहर की रौनक़ में गुम हो के बहुत ख़ुश था इक शाम बचा लेता इक रोज़ तो घर जाता महरूम फ़ज़ाओं में मायूस नज़ारों में तुम 'अज़्म' नहीं ठहरे मैं कैसे ठहर जाता

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अज़्म बहज़ाद

Azm Behzad - mushaira

अज़्म बहज़ाद

उस आँख से वहशत की तासीर उठा लाया

अज़्म बहज़ाद

कहीं गोयाई के हाथों समाअत रो रही है

अज़्म बहज़ाद

जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

अज़्म बहज़ाद

जो बात शर्त-ए-विसाल ठहरी वही है अब वज्ह-ए-बद-गुमानी

अज़्म बहज़ाद

संबंधित शायर

  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन
  • बहज़ाद लखनवी बहज़ाद लखनवी दादा
  • सलीम कौसर सलीम कौसर समकालीन
  • आरिफ़ इमाम आरिफ़ इमाम समकालीन
  • इरफ़ान सत्तार इरफ़ान सत्तार समकालीन

"कराची" के और शायर

  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • इशरत रूमानी इशरत रूमानी
  • सिराज मुनीर सिराज मुनीर
  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • सऊद उस्मानी सऊद उस्मानी
  • तनवीर अंजुम तनवीर अंजुम
  • अकबर मासूम अकबर मासूम
  • अहमद हातिब सिद्दीक़ी अहमद हातिब सिद्दीक़ी
  • निसार तुराबी निसार तुराबी
  • फ़ातिमा  हसन फ़ातिमा हसन