Kaifi Azmi's Photo'

कैफ़ी आज़मी

1918 - 2002 | मुंबई, भारत

लोकप्रिय प्रमुख प्रगतिशील शायर और फि़ल्म गीतकार/हीर राँझा और काग़ज़ के फूल के गीतों के लिए प्रसिद्ध

लोकप्रिय प्रमुख प्रगतिशील शायर और फि़ल्म गीतकार/हीर राँझा और काग़ज़ के फूल के गीतों के लिए प्रसिद्ध

कैफ़ी आज़मी

ग़ज़ल 21

नज़्म 43

अशआर 21

बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में

कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

  • शेयर कीजिए

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं

दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं

इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं

दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद

बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए

इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए

  • शेयर कीजिए

रहने को सदा दहर में आता नहीं कोई

तुम जैसे गए ऐसे भी जाता नहीं कोई

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 28

चित्र शायरी 16

वीडियो 50

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Kaifi Azmi at a mushaira

कैफ़ी आज़मी

Nazm-Aazadi

कैफ़ी आज़मी

Tribute to Guru Dutt by Kaifi Azmi

कैफ़ी आज़मी

Zikr-e-Haq itna mukhasar bhi nahi - Kaifi Azmi

कैफ़ी आज़मी

औरत

उठ मिरी जान मिरे साथ ही चलना है तुझे कैफ़ी आज़मी

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले

कैफ़ी आज़मी

आख़िरी रात

चाँद टूटा पिघल गए तारे कैफ़ी आज़मी

आदत

मुद्दतों मैं इक अंधे कुएँ में असीर कैफ़ी आज़मी

आदत

मुद्दतों मैं इक अंधे कुएँ में असीर कैफ़ी आज़मी

इब्न-ए-मरयम

तुम ख़ुदा हो कैफ़ी आज़मी

औरत

उठ मिरी जान मिरे साथ ही चलना है तुझे कैफ़ी आज़मी

की है कोई हसीन ख़ता हर ख़ता के साथ

कैफ़ी आज़मी

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले

कैफ़ी आज़मी

ज़िंदगी

आज अँधेरा मिरी नस नस में उतर जाएगा कैफ़ी आज़मी

दूसरा बन-बास

राम बन-बास से जब लौट के घर में आए कैफ़ी आज़मी

दूसरा बन-बास

राम बन-बास से जब लौट के घर में आए कैफ़ी आज़मी

बहरूपनी

एक गर्दन पे सैकड़ों चेहरे कैफ़ी आज़मी

मकान

आज की रात बहुत गर्म हवा चलती है कैफ़ी आज़मी

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बा'द

कैफ़ी आज़मी

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बा'द

कैफ़ी आज़मी

सुना करो मिरी जाँ इन से उन से अफ़्साने

कैफ़ी आज़मी

ऑडियो 31

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले

लाई फिर एक लग़्ज़िश-ए-मस्ताना तेरे शहर में

क्या जाने किस की प्यास बुझाने किधर गईं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

"मुंबई" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए