Aaga nisaar's Photo'

आग़ा निसार

ग़ज़ल 1

 

शेर 1

तिरे लबों को मिली है शगुफ़्तगी गुल की

हमारी आँख के हिस्से में झरने आए हैं