noImage

अब्दुल अज़ीज़ अम्बर

शेर 1

ये कह के उस ने गुल किया शम-ए-मज़ार को

जब सो गए तो क्या है ज़रूरत चराग़ की

  • शेयर कीजिए