Abdul Hamid Adam's Photo'

अब्दुल हमीद अदम

1910 - 1981 | पाकिस्तान

लोकप्रिय शायर, ज़िंदगी और मोहब्बत से संबंधित रुमानी शायरी के लिए विख्यात।

लोकप्रिय शायर, ज़िंदगी और मोहब्बत से संबंधित रुमानी शायरी के लिए विख्यात।

ग़ज़ल 81

शेर 92

मैं मय-कदे की राह से हो कर निकल गया

वर्ना सफ़र हयात का काफ़ी तवील था

  • शेयर कीजिए

जिन से इंसाँ को पहुँचती है हमेशा तकलीफ़

उन का दावा है कि वो अस्ल ख़ुदा वाले हैं

  • शेयर कीजिए

बढ़ के तूफ़ान को आग़ोश में ले ले अपनी

डूबने वाले तिरे हाथ से साहिल तो गया

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 50

ई-पुस्तक 19

बत-ए-मय

 

1957

Chara-e-Dard

 

1984

Dastan-e-Heer

 

1959

Do Jam

 

1960

Gardish-e-Jaam

 

 

Gulnar

 

 

ख़म-ए-अबरू

 

1960

Kharabat

 

 

Kharabat

 

1955

Kharabat

 

 

वीडियो 20

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Hans Ke Bola Karo Bulaya Karo

अब्दुल हमीद अदम

छेड़ो तो उस हसीन को छेड़ो जो यार हो

अब्दुल हमीद अदम

हँस के बोला करो बुलाया करो

अब्दुल हमीद अदम

ऑडियो 10

आगही में इक ख़ला मौजूद है

ऐ साक़ी-ए-मह-वश ग़म-ए-दौराँ नहीं उठता

कितनी बे-साख़्ता ख़ता हूँ मैं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • जमील मज़हरी जमील मज़हरी समकालीन
  • सय्यद मोहम्मद जाफ़री सय्यद मोहम्मद जाफ़री समकालीन
  • बिस्मिल सईदी बिस्मिल सईदी समकालीन
  • माहिर-उल क़ादरी माहिर-उल क़ादरी समकालीन
  • मख़दूम मुहिउद्दीन मख़दूम मुहिउद्दीन समकालीन
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़ समकालीन
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी समकालीन

Added to your favorites

Removed from your favorites