noImage

अब्दुल रहमान एहसान देहलवी

1769 - 1851 | दिल्ली, भारत

मुग़ल बादशाह शाह आलम सानी के उस्ताद, मीर तक़ी मीर के बाद के शायरों के समकालीन

मुग़ल बादशाह शाह आलम सानी के उस्ताद, मीर तक़ी मीर के बाद के शायरों के समकालीन

ग़ज़ल 37

शेर 46

नमाज़ अपनी अगरचे कभी क़ज़ा हुई

अदा किसी की जो देखी तो फिर अदा हुई

  • शेयर कीजिए

गले से लगते ही जितने गिले थे भूल गए

वगर्ना याद थीं हम को शिकायतें क्या क्या

  • शेयर कीजिए

ब-वक़्त-ए-बोसा-ए-लब काश ये दिल कामराँ होता

ज़बाँ उस बद-ज़बाँ की मुँह में और मैं ज़बाँ होता

  • शेयर कीजिए

रुबाई 3

 

पुस्तकें 1

कुल्लियात-ए-एहसान

 

1968

 

"दिल्ली" के और शायर

  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • ऐश देहलवी ऐश देहलवी
  • मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता
  • इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन
  • मीर सोज़ मीर सोज़
  • ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़ ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़
  • ज़हीर देहलवी ज़हीर देहलवी
  • मीर मेहदी मजरूह मीर मेहदी मजरूह