ग़ज़ल 10

शेर 9

मिरी वफ़ा है मिरे मुँह पे हाथ रक्खे हुए

तू सोचता है कि कुछ भी नहीं समझता मैं

रास आएगी मोहब्बत उस को

जिस से होते नहीं वादे पूरे

चंद पेड़ों को ही मजनूँ की दुआ होती है

सब दरख़्तों पे तो पत्थर नहीं आया करता

"ओकाड़ा" के और शायर

  • नासिर शहज़ाद नासिर शहज़ाद
  • शबाना ज़ैदी शबीन शबाना ज़ैदी शबीन
  • तलहा गौहर चिश्ती तलहा गौहर चिश्ती