Ahmad Wasi's Photo'

अहमद वसी

1943 | मुंबई, भारत

ग़ज़ल 4

 

नज़्म 2

 

शेर 18

वो करे बात तो हर लफ़्ज़ से ख़ुश्बू आए

ऐसी बोली वही बोले जिसे उर्दू आए

  • शेयर कीजिए

लोग हैरत से मुझे देख रहे हैं ऐसे

मेरे चेहरे पे कोई नाम लिखा हो जैसे

  • शेयर कीजिए

जो चेहरे दूर से लगते हैं आदमी जैसे

वही क़रीब से पत्थर दिखाई देते हैं

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 3

Ahmad Wasi : Shairi Aur Shakhsiyat

 

2010

Jugnu Mere Sath Sath

 

2004

Tahreeren

 

2015

 

"मुंबई" के और शायर

  • पॉपुलर मेरठी पॉपुलर मेरठी
  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र
  • अब्दुस्समद ’तपिश’ अब्दुस्समद ’तपिश’
  • ऐनुद्दीन आज़िम ऐनुद्दीन आज़िम
  • रश्मि सबा रश्मि सबा
  • फ़िगार उन्नावी फ़िगार उन्नावी
  • दिवाकर राही दिवाकर राही
  • अरशद जमाल सारिम अरशद जमाल सारिम
  • शफ़क़ सुपुरी शफ़क़ सुपुरी
  • हसीब सोज़ हसीब सोज़