noImage

अहमद आमेठवी

अहमद आमेठवी

शेर 1

ज़िंदगी है अपने क़ब्ज़े में अपने बस में मौत

आदमी मजबूर है और किस क़दर मजबूर है

  • शेयर कीजिए