Akash Arsh's Photo'

आकाश 'अर्श'

2001 | दिल्ली, भारत

नौजवान उर्दू शाइर

नौजवान उर्दू शाइर

आकाश 'अर्श'

ग़ज़ल 5

 

नज़्म 2

 

अशआर 6

सब अपनी ज़ात में इक अंजुमन के मुजरिम हैं

किसी वजूद में कुछ फ़र्द जैसा है ही नहीं

मैं तेरे हदिया-ए-फुर्क़त पे कैसे नाज़ाँ हूँ

मिरी जबीं पे तिरा ज़ख़्म तक हसीन नहीं

किसी परिंद की चीख़ों ने संग-बारी की

सुकूत-ए-शाम का शीशा बिखर गया मुझ में

बैठा हुआ हूँ लग के दरीचे से महव-ए-यास

ये शाम आज मेरे बराबर उदास है

हर एक सम्त तिरी याद का धुँदलका है

तिरे ख़याल का सूरज उतर गया मुझ में

लेख 1

 

पुस्तकें 34

संबंधित ब्लॉग

 

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए